उस दिन पानी ने ऐसे बचा ली इस सीआरपीएफ जवान की जान, नही तो हो जाता शहीद

376

पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद पूरे देश मे गुस्सा है।
बॉलीवुड सेलेब्रिटी पाक से बदला लेने की बात कह रहे है।
हरभजन सिंह,वीरेंद्र सहवाग,युजवेंद्र चहल समेत ज्यादातर क्रिकेटर पाकिस्तान से क्रिकेट से जुड़े सभी सम्बन्ध खत्म करने की बात कर रहे है।
देश की आम जनता रोज सड़को पर उतरके पाकिस्तान का पुतला जला रही है,पाक मुर्दाबाद और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे खूब सुनने को मिल रहे है।  सब मिलके पाकिस्तान को गरिया रहे है।
ख़ैर,14 फरवरी को जहां पूरा देश नम आंखों से शहीदों को विदाई दे रहा था वही असम की रहने वाली सुपर्णा दास और उनके दो बच्चो के लिए 14 फरवरी का दिन खुशी और गम के बीच बीता।
गम इसलिए क्योकि उस दिन देश के 40 बहादुर जवान आतंकी हमले का शिकार होकर शहीद हो गए थे और खुशी इसलिए क्योकि सुपर्णा के पति इस हमले में बाल बाल बच गए थे।

उनके बचने की स्टोरी भी बड़ी दिलचस्प रही।
सुपर्णा के पति बबलू दास भी उसी काफिले का हिस्सा थे जिसमें सीआरपीएफ जवान अपने अगले पड़ाव के लिए जा रहे थे,बबलू दास भी उसी बस में बैठने वाले थे जिसमें फिदायीन हमला हुआ लेकिन उनकी किस्मत बढ़िया रही और एक गिलास पानी ने उनकी जान को बचा लिया।
अब आप सोच रहे होंगे कि पानी ने आखिर कैसे जान बचा ली।ह्म्म्म,चलिये बताते है।दरअसल काफिला निकलने से कुछ टाइम पहले बबलू को प्यास लगी, वो बस से उतरके पानी पीने के लिए चले गए और जब वापिस आये तब तक बस फुल हो चुकी थी। ऐसे में वो आकर दूसरी बस में बैठ गए। बदकिस्मती देखिए कि जिस बस को उन्होंने छोड़ दिया था वो बस आगे जाकर आतंकी हमले का शिकार हो गई और उसमे बैठे देश के 40 जवान देश को अलविदा कह गए।


सुपर्णा दास बताती है कि इस हमले ने हमारे परिवार को पूरी तरह हिलाकर रख दिया था,उनका अपने पति बबलू से भी कांटेक्ट नही हो पा रहा था ऐसे में उन्हें किसी अनहोनी का भी डर सता रहा था। वो पति को लगातार कॉल करती गई लेकिन उधर से जवाब ही नही मिल पा रहा था जिसके चलते डरना लाजमी भी था।


बाद में शाम को बबलू दास ने अपनी पत्नी सुपर्णा को कॉल किया और अपने जिंदा होने की सूचना दी उसके बाद ही परिवार चैन की सांस ले पाया। 
पति तो बच गए लेकिन 40 जवानों को खोने का दर्द सुपर्णा की आंखों में साफ दिखाई दे रहा था। उनका कहना था कि जवानों की शहादत बेकार नही जानी चहिए और भारत को अब बदला लेना ही चाहिए .