पाकिस्तान से आई मदद के बदले तालिबान ने किया उसका अपमान

41

तालिबान की सहायता के लिए पाकिस्तान ने अफगानिस्तान को राहत सामग्री भेजी, लेकिन वहां उसके ध्वज का अपमान किया गया। दरअसल, पाकिस्तान से राहत सामग्री के 17 ट्रक तोरखम सीमा के रास्ते अफगानिस्तान पहुंचाए जा रहे थे, लेकिन तालिबान के सीमा सुरक्षा गार्डों ने इनमें से एक ट्रक से पाकिस्तान का झंडा हटा दिया. इस घटना का वीडियो जब सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो पाकिस्तानियों ने नाराजगी जतानी शुरू कर दी. तालिबान ने विवाद पर आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की है।


तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने भी घटना पर खेद जताया है। मुजाहिद ने इस मामले के दौरान कहा है कि इस मामले में दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं.

मुजाहिद ने कहा कि इस मामले में सभी तालिबान नेताओं ने दुख जताया है। उन्होंने कहा कि राहत सामग्री से लदे ट्रकों के साथ ऐसी घटनाओं को कम से कम बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और हम ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश करते हैं। पाकिस्तान ने 17 ट्रक अफगानिस्तान भेजे थे, जिसमें 278 टन खाद्य सामग्री मौजूद थी। इसमें 65 टन चीनी, तीन टन दाल, 190 टन आटा, 11 टन वनस्पति तेल और 31 टन चावल था।

अफगानिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत मंसूर खान ने ट्वीट किया कि पाकिस्तान ने तोरखम के जरिए अफगानिस्तान की मदद करना शुरू कर दिया है। हमारे सीजी जलालाबाद अबीदुल्ला को पाक-अफगान सहयोग मंच से खाद्य सामग्री के 13 ट्रक मिले हैं और इन ट्रकों को अफगानिस्तान के विभिन्न प्रांतों में भेजा जा रहा है। इसके अलावा बाकी बचे 4 ट्रक अफगानिस्तान के नंगरहार में मौलवी मुबारिज को मिले।

इससे पहले पाकिस्तान ने सी-130 विमान के जरिए 32 टन आटा, छह टन वनस्पति तेल और दो टन दवाएं भेजी थीं। रिपोर्टों के अनुसार, पाकिस्तान ने अब भूमि मार्गों का उपयोग करना शुरू कर दिया है और इसलिए अफगानिस्तान में राहत सामग्री पहुंचाने का काम आने वाले कुछ हफ्तों में जारी रहेगा। पाकिस्तान अगले कुछ महीनों में सर्दी को देखते हुए राहत सामग्री के तौर पर कंबल और तंबू भी भेजेगा।