पाकिस्तान में लड़कियों के साथ हुए अत्याचार के खिलाफ सुषमा ने उठाई आवाज तो भिड गया पाकिस्तानी मंत्री!

509

पाकिस्तान में एक हिन्दू बाप … जो अपनी नाबालिग बच्चियों के साथ हुए अत्याचार के खिलाफ आवाज उठा रहा है… खुद को पुलिस वालों से गोली मार देने के लिए कह रहा है… विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जब इन बच्चियों पर हुए अत्याचार पर जानकारी लेनी चाही तो पाकिस्तान के मंत्री सुषमा स्वराज से ही भिड गये….दरअसल पाकिस्तान में दो लड़कियों के अपहरण, निकाह और जबरन धर्म परिवर्तन कराने का मामला सामने आया.. कुछ समय बाद इन बच्चियों का रोता हुआ वीडियो भी सामने आया… थोड़ी देर बाद ये विडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा और भारत में इस विडियो को लेकर आक्रोश देखने को मिला. होली की शाम पर दो नाबालिग हिंदू लड़कियों, 13 वर्षीय रवीना और 15 वर्षीय रीना का अपहरण करके उन्हें पाकिस्तान के सिंध प्रांत में अपने उम्र से बहुत बड़े मुस्लिम पुरुषों से जबरन शादी करने के लिए मजबूर किया गया। हिन्दू बच्चियों पर हुए इस अत्याचार ने पूरे विश्व में लोगों को पाकिस्तान में हिन्दुओं के हालात पर सोचने के लिए मजबूर कर दिया। लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ सोशल मीडिया पर लिखना शुरू कर दिया है लेकिन सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि

जब मामला भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की संज्ञान में आया तो उन्होंने पाकिस्तान के इस मसले से जुड़े विवाद पर पाकिस्तान में भारतीय हाई कमिशनर से जानकारी मांगी.. जानकारी तो भारतीय हाई कमिशनर से मांगी गयी लेकिन पाकिस्तान के एक मंत्री साहब को बड़ा बुरा लग गया… वे इतना बुरा मांग गये कि उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि ये इमरान ख़ान का नया पाकिस्तान है, मोदी का भारत नहीं है. ये हमारा आंतरिक मामला है.. इसके बाद सुषमा स्वराज ने एक और ट्वीट किया जिससे पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी अपनी बेइज्जती करवा बैठे… सुषमा स्वराज ने लिखा कि मंत्री जी मैंने तो इस्ल्मामाबाद से भारतीय हाई कमिश्नर से दो बच्चियों के किडनैप के मामले की जानकारी मांगी थी.. बस इतने भर से आप क्यों बौखला गये? इसके बाद पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी कश्मीर और गुजरात की दुहाई देने लगे… आगे फवाद चौधरी के साथ क्या हुआ ये तो हम आपको आगे बताएँगे.. पहले आप पूरी घटना समझिये.


इन दो बच्चियों के साथ हुए इस अत्याचार पर इनके पिता का पुलिस स्टेशन के बाहर रोता हुआ वीडियो सामने आया था.. जिसमें वे पुलिस स्टेशन के बाहर अकेले बैठे हुए और रोते हुए दिखाई दे रहे हैं.. इस वीडियो को देखने के बाद ही आप इस बाप का दर्द समझ सकते हैं.. जिसकी बेटी को अगवा कर लिया गया हो और फिर उनकी जबरन शादी की खबर सुनाई दे वो भी बहुसंख्यकों द्वारा. पाकिस्तान में बहुसंख्यक मतलब मुसलमान होता है.
भारत लंबे समय से पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों, खासकर हिंदू समुदाय के साथ हो रही दुर्दशा का मामला उठाता रहा है. भारत द्वारा हिंदू बच्चियों के मामले में रिपोर्ट मांगे जाने पर इमरान खान ने इसकी जांच के आदेश भी दे दिए हैं. सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने सुषमा स्वराज के ट्वीट के बाद रविवार को यह जानकारी दी. इसके बाद फवाद चौधरी लोगों के आक्रोश का शिकार होना पड़ा…


ऋतू नाम की एक महिला यूजर ने फवाद चौधरी को जवाब देते हुए कहा कि नही ये आपका आंतरिक मामला नही है. ये ह्यूमन राईट वायलेशन का मामला है. सुषमा स्वराज ने लगभग 100 मेडिकल वीजा पाकिस्तान के लोगों को दिया है और अब इन हिन्दू बच्चियों के साथ खड़ी हैं.
आपको बता दें कि कई पाकिस्तान के आम नागरिकों ने सुषमा स्वराज से मेडिकल वीजा की मांग की थी जिससे वे भारत आकर अपना उपचार करवा सकें…


मोदी सरकार में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ट्वीटर के जरिये ना कि भारतीयों बल्कि विदेशियों की भी मदद के लिए सुर्ख़ियों में आ चुकी हैं. शायद इसीलिए आज पूरा हिन्दुस्तान सुषमा स्वराज को सलाम करता है.