सुषमा स्वराज ने संभाला मोर्चा, प्रियंका गांधी के बाद ममता बनर्जी को दिया जवाब

449

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज ने मंगलवार को अलग-अलग ट्वीट कर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर निशाना साधा । सुषमा स्वराज ने एक तरफ प्रियंका गांधी को मनमोहन सिंह सरकार की याद दिलाई और कहा कि राहुल गांधी ने कैसे अध्यादेश फाड़ कर फेंका था, तो दूसरी ओर उन्होंने ममता बनर्जी को बशीर बद्र का एक शेर याद दिलाया और राजनीति में दोस्ती और दुश्मनी की बात की.

प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए अपने पहले ट्वीट में सुषमा स्वराज ने लिखा, ‘प्रियंका जी, आज आपने अहंकार की बात की. मैं आपको याद दिला दूं कि अहंकार की पराकाष्ठा तो उस दिन हुई थी जिस दिन राहुल जी ने अपने ही प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह जी का अपमान करते हुए राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश को फाड़ कर फेंका था. कौन किसको सुना रहा है?’

दरसल राहुल गांधी ने राजनीति में जब नयी नयी एंट्री ली थी उस वक़्त उन्होंने अपने  दागी नेताओं को बचाने के लिए लाए गए अध्‍यादेश पर बयान देकर यूपीए सरकार को ही कटघरे में खड़ा कर दिया था।राहुल ने उस अध्‍यादेश को ‘पूरी तरह बकवास’ करार दिया है जिसे पीएम मनमोहन सिंह की अगुवाई वाली कैबिनेट ने मंजूरी दी थी । उन्‍होंने यहां तक कह दिया कि ऐसे अध्‍यादेश को फाड़ कर फेंक देना चाहिए। इतना ही नहीं बाद में उनकी फ़ोटो भी काफ़ी viral हुयी थी जिसमें वो अध्‍यादेश को फाड़ कर फेंकते नज़र आए थे।

उसके बाद दूसरे ट्वीट में उन्होंने ममता बनर्जी को बशीर बद्र का एक शेर याद दिलाया और राजनीति में दोस्ती और दुश्मनी की बात की. उन्होंने लिखा ‘’ ममता जी – आज आपने सारी हदें पार कर दीं. आप प्रदेश की मुख्यमंत्री हैं और मोदी जी देश के प्रधान मंत्री हैं. कल आपको उन्हीं से बात करनी है. इसलिए बशीर बद्र का एक शेर याद दिला रही हूँ ,
दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे, 
जब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोलकाता में एक चुनावी रैली के दौरान पीएम मोदी को काफ़ी कुछ सुनाया था , रैली के दौरान उन्होंने बोला की पीएम नरेंद्र मोदी को लोकतंत्र का मजबूत तमाचा पड़ना चाहिए । इतना ही नहीं उन्होंने चक्रवात फानी पर प्रधानमंत्री मोदी का फोन न उठाने के मामले पर सफाई देते हुए कहा, ‘मैं खड़कपुर में थी इसलिए प्रधानमंत्री कार्यालय से आए फोन पर बात नहीं कर सकी. इसी के साथ उन्होंने कहा कि चुनाव हो रहे हैं, ऐसे में मैं एक्सपायरी प्रधानमंत्री के साथ मंच साझा नहीं करना चाहती’. वो इतने पर भी चुप नहीं बैठी, आगे उन्होंने जोरदार हमला करते हुए बोला , ”5 साल पहले उन्होंने अच्छे दिनों की बात की थी, लेकिन बाद में नोटबंदी कर दी. वह संविधान भी बदल देंगे. ”मैं बीजेपी के नारों में विश्वास नहीं रखती. पैसा मेरे लिए कोई मायने नहीं रखता लेकिन जब नरेंद्र मोदी बंगाल आकर कहते हैं कि टीएमसी लुटेरों से भरी पड़ी है तो मुझे उन्हें थप्पड़ मारने का मन हुआ.”  

इससे पहले प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रधानमंत्री मोदी की तुलना दुर्योधन से की थी , उन्होंने अंबाला में कहा था कि महाभारत के पात्र दुर्योधन में भी “ऐसा ही अहंकार था.” देश ने अहंकार को कभी माफ नहीं किया. जब भगवान कृष्ण उन्हें समझाने गए तो उनको भी दुर्योधन ने बंधक बनाने की कोशिश की. दिनकर जी की पंक्तियां हैं-जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है.

गौरतलब है कि बीजेपी ने पश्चिम बंगाल की सीटों पर जीत हासिल करने के लिए पूरी एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है। इसके पहले साल 2014 में बीजेपी को यहां सिर्फ 2 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।