कुछ अधूरी ख्वा’हिशे अब अधूरी ही रह गयी, मौ’त से पहले सुशांत ने शेयर की थी अपनी विशलिस्ट

209

सुशांत सिंह राजपूत का सु’साइड करना काफी शॉ’किंग है. अचानक ऐसा किया हुआ कि इतना बड़ा कदम उठा लिया? कुछ ऐसे ही सवाल अपने फैंस के मन में छोड़ के दुनिया को अल’विदा कह गए सुशांत सिंह राजपूत.आज मुंबई में अपने घर में सुशांत सिंह राजपुर ने सुसा’इड कर लिया जिसके बाद जैसे ही ये खबर उनके दोस्तों और चाहने वालो को मिली सभी ने दुः’ख जताया.

सुशांत सिंह राजपूत जितने खुश’मिजाज स्वभाव के व्यक्ति थे. उतने ही बेहतर इंसान भी. अपने जीवन में कामियाबी की सीढी चढ़ना शुरू ही किया था उससे पहले ही जीवन को समा’प्त कर गए. बता दें सुशांत सिंह की अपने जीवन में कुछ इ’च्छाए थी जिन्हें वो पूरा करना चाहते थे. उनकी विशलिस्ट में प्लेन उड़ाने से लेकर, नेत्र’हीन लोगों को कंप्यूटर कोडिंग सिखाना चाहते थे साथ ही अपनी पसंदीदा लैंबोर्गिनी गाड़ी खरीदना चाहते थे. इसके अलावा वो पर्यावरण के लिए भी योगदान देना चाहते हैं और उसके लिए 1000 पेड़ों को लगाने की तैयारी कर रहे थे.

साथ ही स्वामी विवेकानंद पर डॉक्यू’मेंट्री, सिमे’टिक्स पर प्रयोग, ट्रेन से यूरोप की यात्रा, डि’फेंस फोर्स के लिए स्टूडेंट्स को तैयारी कराना, महिलाओं को आत्मसु’रक्षा की ट्रेनिंग देना और क्रिया योगा सीखना, प्रोफेशनल खिलाड़ी के साथ चेस और पोकर खेलना, मोर्स कोड सीखना, खेती करना सीखना, महिलाओं को सेल्फ डि’फेन्स की ट्रेनिंग में मदद करना भी शामिल था.

सुशांत सिंह जितने संवेदनशील व्यक्ति थे. उतने ही अच्छे कलाकार भी थे. टीवी से लेकर बॉलीवुड तक के सफ़र में उन्होंने कई बेहतर फिल्मे की. लेकिन अब उनकी सारी विशेज सिर्फ एक सपना ही बन कर रह गयी.