28 साल बाद वि’वादित ढांचे पर आया कोर्ट का ब’ड़ा फैसला, जिसमें कल्याण सिंह, उमा भारती समेत सभी को…

159

अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया था. काफी इंतजार के बाद मंदिर के पक्ष में फैसला आया जिसके बाद अब मंदिर के निर्माण की नींव भी रखी जा चुकी है और निर्माण कार्य शुरू हो गया है. वहीँ 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में वि’वा’दित ढां’चा ढहा’ए जाने के मामले में 28 साल बाद विशेष कोर्ट का फै’सला आ गया है.

जानकारी के लिए बता दें 28 साल बाद जज सुरेंद्र कुमार यादव की विशेष अदालत ने वि’वादि’त ढां’चा ढ’हाए जाने में अपना फैसला सुनाया है. जज ने अपने फैसले में कहा है कि यह वि’ध्वं’श पूर्व नि’योजित नहीं था बल्कि आ’कस्मि’क घ’टना थी. जिसके चलते विशेष अदालत ने लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और कल्याण सिंह समेत सभी अ’भियु’क्तों को ब’री कर दिया है.

6 दिसंबर 1992 में हुई इस आ’कस्मि’क घटना के बाद 49 लोगों को अ’भियुक्त बनाया गया था, जिसमें से 17 की मौ’त हो चुकी है. इतना ही नहीं अभियुक्तों के वकीलों ने 800 पन्ने की लिखित ब’हस भी दा’खिल की थी. वहीँ इससे पहले सीबीआई ने 351 गवाह और 600 से अधिक दस्तावेजी सा’क्ष्य पेश किये हैं. वहीँ 30 सितंबर 2019 को सुरेंद्र कुमार यादव जिला जज लखनऊ के पद से सेवा’निवृत्त हो गये थे. इसके बावजूद सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें इस मामले फैस’ला सुनाने तक सेवा विस्तार दिया था. जिसके बाद आज इस मामले में फैसला आ गया है और सभी अ’भियु’क्तों को ब’री कर दिया है.