यूपी में 69000 शिक्षकों की भर्ती पर फिर से फिरा पानी,सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा झटका इतने पदों पर लगाईं रोक, जानिए वजह

66

उत्तरप्रदेश में अभी हाल ही में 69000 शिक्षक भर्तियों का रास्ता साफ हो गया था और परिणाम जारी हो गया था. जिसके बाद कॉउंसलिंग की भी डेट जारी कर अभ्यर्थियों को बुलाया गया था. इसी बीच अब एक बड़ी खबर आ रही है जिसे जानने के बाद आपको बड़ा झटका लगना तय है.  उत्तर प्रदेश में 69 हजार प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती मामले में नया मोड आया है. सुप्रीम कोर्ट ने 69 हज़ार शिक्षामित्रों की भर्ती के मामले में 37339 पदों को होल्ड करने का आदेश दे दिया हैं. सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को आदेश देते हुए कहा कि 37339 पदों पर नियुक्ति को फिलहाल होल्ड कर दिया जाये.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में यूपी सरकार से चार्ट के जरिए ये बताने को कहा था कि ‘आरक्षित वर्ग के लिए तय 40 फीसदी और जनरल के लिए 45 फीसदी के कटऑफ पर कितने शिक्षामित्र पास हुए हैं.’ लेकिन इसपर सिक्षमित्रों का कहना है की लिखित परीक्षा में टोटल 45357 शिक्षामित्रों ने फॉर्म भरा था, जिसमें से 8018 शिक्षामित्र 60-65% के साथ पास हुए. इसके बाद शिक्षामित्रों का कहना है की इसमें एक और अस्चर्या की बात ये है कि हमे पता ही नहीं है कि 40-45 प्रतिशत पर कितने लोग पास हुए हैं. यही एक कारण है की शिक्षामित्र 69000 हज़ार में से 37339 को छोड़ कर सहायक सिक्षामित्रो की भर्ती की जाये या फिर पूरी भर्ती प्रक्रिया को स्टे कर दिया जाये.

इसके उपर पहले ही इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने पहले ही स्टे लगा रखा हैं. अब इसपर 10 जून को हाई कोर्ट खंडपीठ अपना फैसला सुनाएगी. अगर वो अपने फैसले में स्टे हटा भी देती है. तो भी अब 37339 पदों को रोकने के बाद ही अब भारती होगी क्योकि ये आदेश सुप्रीम कोर्ट का है की 37339 इतने पद होल्ड कर दिए जाएँ.