सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस को फिर दिया झटका, अर्नब गोस्वामी को फिर दे दी बड़ी राहत

8164

सोनिया गाँधी पर टिपण्णी करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर कांग्रेस को झटका देते हुए रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को बड़ी राहत दे दी. लाइव टीवी डिबेट में कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी पर टिप्पणी करने के बाद अर्नब गोस्वामी के खिलाफ देश भर में कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने 100 से अधिक FIR दर्ज करवाए थे. इससे पहले हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी की गिरफ़्तारी पर 3 हफ्ते की रोक लगा दी थी. सोमवार को हुई सुनवाई के बाद कोर्ट ने अर्नब की राहत को अगले सोमवार तक और बढ़ा दिया.

अर्नब गोस्वामी के लाइव डिबेट कार्यक्रम के दौरान कुछ टिप्पणियो की वजह से एक समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज प्राथमिकी रद्द करने के लिये उनकी याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई पूरी कर ली है और फैसला सुरक्षित रख लिया है. इस मामले में फैसला बाद में सुनाया जाएगा. न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम आर शाह की पीठ ने अर्नब गोस्वामी की याचिका पर वीडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से सुनवाई की. इस सुनवाई के दौरान अर्नब की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे, केन्द्र की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता और महाराष्ट्र सरकार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल मौजूद रहे. सभी की दलीलों को सुनने के बाद कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया.

अर्नब की तरफ से दलील रखते हुए वकील हरीश साल्वे ने कहा कि यह एक पत्रकार को एक राजनीतिक दल द्वारा निशाना बनाए जाने का मामला है क्योंकि सारे शिकायतकर्ता एक ही राजनीतिक दल के सदस्य हैं. उनका असली मकसद असहमति की आवाज को दबाना है इसलिए वे इस पत्रकार को सबक सिखाना चाहते हैं. गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी से लगातार 12 घंटे तक पूछताछ की थी जिसपर काफी राजनीतिक बवाल हुआ था.