जामिया के उप’द्रवी छात्रों पर भड़का सुप्रीम कोर्ट, कहा ‘हिं’सा रोको वरना नहीं करेंगे सुनवाई’

1240

जामिया मिलिया के छात्रों द्वारा दिल्ली में उप’द्रव मचाने पर सुप्रीम कोर्ट भी सख्त हो गया है. कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा है कि अगर हिं’सा फैलाओगे तो पुलिस को कदम उठाना ही होगा. सार्वजनिक संपत्ति को नुक’सान नहीं पहुंचाया जा सकता. छात्र होने से उप’द्रव का अधिकार नहीं मिल जाता.

जामिया मिलिया के उप’द्रवी छात्रों पर पुलि’स की कार’वाई के खिलाफ वकील इंदिरा जयसिंह ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डालते हुए कहा था कि मानवा’धिकारों का हन’न हो रहा है. याचिकाकरता ने पुलिस द्वारा हिं’सा करते हुए वीडियो होने का भी दावा किया तो चीफ जस्टिस भड़क गए और फटकार लगाते हुए कहा कि ये कोर्ट रूम है. यहाँ शांति से अपनी बात रखनी होगी. पहले हिं’सा रोको वरना नहीं करेंगे सुनवाई. अब इस मामले पर मंगलवार को सुनवाई होगी.

जामिया के छात्रों द्वारा उप’द्रव पर राजनीति भी तेज हो गई है. उप’द्रव और उप’द्रवी छात्रों की निंदा करने और इन हरकतों का विरोध करने की बजाये कांग्रे’स उप’द्रवी छात्रों के साथ खड़ी नज़र आई. ऐसा लग रहा है मानों कांग्रेस को इंतज़ार ही था कि ऐसा कुछ हो. क्योंकि रात के 11 बजे कांग्रेसी नेता जामिया के छात्रों से मिलने दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर पहुँच गए जहाँ छात्र जमा हो कर प्रदर्शन कर रहे थे.

दूसरी तरफ दिल्ली में हुई हिं’सा के बाद केंद्र सरकार ने भी पुलिस को उपद्र’वियों पर सख्त कार’वाई करने का निर्देश दिया है. दूसरी तरफ जामिया के छात्रों के देखा देखी अलीगढ और हैदराबाद के यूनिवर्सिटी में भी तना’व का माहौल बनना शुरू हो गया है. रविवार को देर रात अलीगढ यूनिवर्सिटी में छात्रों ने पुलिस पर जमकर प’त्थर चलाये जिसके बाद 5 जनवरी तक यूनिवर्सिटी में छुट्टी कर दी गई है.