शाहीन बाग़ में CAA को लेकर हो रहे प्रदर्शन पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया प्रदर्शनकारियों को झटका

2637

केंद्र सरकार ने अभी हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून लागू किया था, जिसके चलते देश के अलग-अलग हिस्सों में विपक्षी दलों के साथ लोगों ने उसका विरोध करना शुरू कर दिया और सड़कों पर उतर आए. विरोधियों के रुख को देखने के बाद केंद्र सरकार ने साफ़ कर दिया है कि वह CAA को लेकर अपना फैसला वापस नहीं लेने वाली है और इससे किसी की नागरिकता नहीं छीनी जाएगी. इसके बावजूद भी लोग लगातार विरोध कर रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें दिल्ली के शाहीन बाग़ में CAA को लेकर पिछले लगभग 60 दिनों से विरोध चल रहा है. जिसमें महिलायें वहां बैठी हुई हैं. शाहीन बाग़ में हो रहे प्रदर्शन से वहां आसपास रहने वाले लोगों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. विरोध करने वाले लोगों ने मुख्य सड़कों को जाम कर दिया है. ऐसे में अब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कड़ी आपत्ति जताई है.

उच्च न्यायलय ने साफ़ कहा है कि लोगों को विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है लेकिन वह निर्दिष्ट क्षेत्र में ही कर सकते हैं ना कि मुख्य सड़को पर. कोर्ट ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि सार्वजनिक रास्तों को कैसे बंद किया जा सकता है. कोर्ट ने साफ़ कहा है कि “यह विरोध प्रदर्शन लंबे समय से हो रहा है। आप एक सार्वजनिक सड़क को कैसे ब्लॉक कर सकते हैं.”

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग़ से प्रदर्शनकारियों को हटाने का अनुरोध करने वाली याचिकों पर दिल्ली पुलिस और केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर दिए हैं. कोर्ट ने कहा है कि “शाहीन बाग में प्रदर्शनकारी सड़क बंद नहीं कर सकते हैं और अन्य के लिए असुविधा पैदा नहीं कर सकते हैं. लोगों को विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है लेकिन उन्हें निर्दिष्ट क्षेत्र में ही प्रदर्शन करना होगा.” कोर्ट के इस फ़ैसले के उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही शाहीन बाग़ खाली करवाया जा सकता है.