माओं का भरोसा डगमगा रहा जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी प्रोडक्ट्स से

584

बच्चों के लिए सबसे सुरक्षित स्थान माँ का गोद होता है .. और सबसे सुरक्षित इंसान माँ होती है … और माएं हमेशा से कापने बच्चों के लिए अच्छा सोचती है और सुरक्षित प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करती हैं… आप भी सोच रहे होंगे कि हम आखिर  माँ और सुरक्षा को लेकर क्यों बात कर रहे है…

बात दरअसल यह है कि अमेरिकी बेबी प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन कम्पनी विवादों के घेरे से निकल नहीं पा रही है….. इस बार राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग मतलब की NCPCR ,बाल अधिकारों से जुड़े शीर्ष संगठन ने अधिकारियों से जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी शैम्पू, पाउडर के sample की जांच रिपोर्ट मांगी है……

इसके साथ NCPCR  ने राजस्थान के ड्रग कंट्रोलर की रिपोर्ट के आधार पर एक ऑर्डर जारी कर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिव को लिखा कि जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी शैम्पू की बिक्री को अगले नोटिस तक रोकी जाए साथ ही सभी प्रोडक्ट्स को मार्केट से हटाने का आदेश भी दे दिया…

हालांकि जॉनसन एंड जॉनसन कम्पनी यह दावा हमेशा से करती रही है कि शैम्पू सुरक्षित और बाकि सभी parameter के अनुकूल है….. पर अब बेबी शैम्पू के साथ पाउडर भी शक के दायरे में है आ गया है………इसलिए एनसीपीसीआर ने राजस्थान के ड्रग कंट्रोलर के अधिकारियों से टैलकम पाउडर के sample  की जांच की रिपोर्ट जल्द से जल्द उपलब्ध कराने का आग्रह किया है…

अधिकारी ने बताया, ‘नियमानुसार कंपनी को एसबेस्टस की मात्रा और स्पेशिफिकेशन की जानकारी जुटाने के लिए रॉ मटीरियल के हर बैच की जांच करनी होती है…. इंस्पेक्टर ने जांच के दौरान पाया कि कंपनी रॉ मटीरियल के हर बैच की जांच की जगह कुछ चुनिंदा रॉ मटीरियल की जांच कर रही थी…… 

अधिकारी ने  यह भी  कहा कि कंपनी पर जांच पूरी होने के बाद कंपनी पर कार्रवाई की जाएगी……  जॉनसन ऐंड जॉनसन के बॉडी पाउडर (बच्चों और बड़ों) के निर्माताओं, डिस्ट्रिब्यूटर्स और होलसेलर्स करने वाले किसी भी व्यक्ति या संस्था पर देशभर में केंद्रीय ड्रग रेग्युलेटर की तरफ से छापेमारी की जाएगी..

दरअसल राजस्थान ड्रग कंट्रोल की रिपोर्ट में बेबी शैम्पू में कैंसर की मौजूदगी पाई…… इस रिपोर्ट को ध्यान में रखते हुए एनसीपीसीआर ने यह कदम उठाया है…..

साथ ही NCPCR ने इस मामले में हर क्षेत्र के कुछ राज्यों के मुख्य सचिवों को जॉनसन एंड  जॉनसन बेबी टैलकम पाउडर और शैम्पू का नमूना इकट्ठा करवाने पर ध्यान देने को कहा है…. इन राज्यों में दक्षिण से आंध्र प्रदेश, पूर्व से झारखंड, पश्चिम से राजस्थान, मध्य भारत से मध्य प्रदेश और पूर्वोत्तर से असम शामिल हैं……

वैसे आपको बता दें कि 1 अप्रैल में आई रिपोर्ट के मुताबिक जॉनसन एंड जॉनसन का बेबी शैम्पू के sample राजस्थान में जमा किए गए थे जिनकी जांच में हानिकारक organ पाए गए…. जिनसे कैंसर हो सकता है….

हालांकि इससे पहले भी जॉनसन एंड जॉनसन के कई प्रोडक्ट्स पर बच्चों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कैंसरकारी तत्वों के होने की बात सामने आई हैं…….. विदेशो में इसके खिलाफ बड़ी कार्रवाई भी हुई हैं और कंपनी को करोड़ों का जुर्माना भी देना पड़ा हैं……

गौरतलब है कि ड्रग्स रेगुलेटर की एक रिपोर्ट के अनुसार पहले भी बेबी पाउडर का सैंपल हिमाचल प्रदेश में जब्त किया था क्योंकि उसमें ड्रग्स रेगुलेटर के द्वारा कैंसर पैदा करने वाले तत्व पाए जाने की संभावना जताई थी… जिस पर कंपनी ने दावा किया था कि एक लाख से अधिक लोगों पर किए गए रिसर्च में भी किसी को कैंसर होने के प्रमाण नहीं मिले हैं.

वैसे तो जोनसन and जोनसन हमेशा से शुद्धता और इमोशन का बखान करता  है … हमने भी देखा है कैसे जोहंसन and जोनसन अपने advertisement में इमोशनल अपील करता … माँ  बच्चे के बीच के रिश्ते को दिखता है … लेकिन फिर भी उसके प्रोडक्ट्स सेफ नहीं है … गर आप भी जोनसन बेबी प्रोडक्ट use  कर रहे है तो सावधानी बरखे…