सोनाली बेंद्रे की इस जिंदादिली को आप भी सलाम करेंगे

5747

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसके नाम से ही लोगों को डर लगता है और यह लोगों को अंदर से तोड़ देता है लेकिन अगर जीने का जज्बा हो तो लोग हर बीमारी से उभर जाते है. सोनाली बेंद्रे ने कैंसर का बहादूरी से सामना किया और एक मिसाल कायम की

सोनाली बेंद्रे जो की एक अच्छी अदाकारा ,मॉडल,पत्नी ,माँ और बिजनेस वीमेन रही हैं उनके नाम के साथ अब एक और टाइटल जुड़ गया है, वो है कैंसर सरवाईवर का. जी हाँ आपको यह मालूम तो होगा ही पिछले साल सोनाली बेंद्रे को कैंसर हो गया था . जिस वजह से उन्होंने एक-दो टीवी शोज को छोड़  दिया था, और अपने ट्रीटमेंट के लिए न्युयोर्क  चली गई थीं. कैंसर बड़े बड़े लोगों को अंदर से झंझोर देता है लेकिन सोनाली के मनोबल और उनके पति गोल्डी के साथ ने उनको इससे लड़ने का साहस दिया.

सोनाली की यह लड़ाई किसी इन्स्पिरेसन से कम नहीं है. उन्होंने न सिर्फ इस बीमारी का बहादूरी से सामना किया बल्कि इसे लोगों के सामने लेकर आई. यह कोई आम बात नहीं है.जहां हर कोई अपनी छोटी छोटी बीमारी के बारे में बात तक नहीं करना चाहता वहां सोनाली ने इतनी बड़ी बीमारी के बारे में सबसे खुलकर बात की है .

सोनाली ने अपने ट्रीटमेंट के दरमियान सोशल मीडिया पर आय दिन कैंसर से रिलेटेड बातें शेयर करती थीं. और कभी कभी लोगों को कैंसर से लड़ने के लिए हिम्मत देती थी.

यह कितना हिम्मत वाला काम है न कि जब सोनाली को खुद के लिए हिम्मत जुटाने की ज़रुरत थी तो उन्होंने अपने साथ साथ कैंसर पीड़ितों की भी मदद की .

ट्रीटमेंट के चलते सोनाली ने अपने बाल भी खो दिए लेकिन इसका उन्हें अब कोई ग़म नहीं है. इस फोटोशूट के साथ दिए इंटरव्यू में सोनाली ने कहा कि अब तो वो अपने बालों को मिस भी नहीं करतीं. विग पहनना, कैप लगाना या स्कार्फ कैरी करना उन्हें बहुत ही भद्दा लगता है. सोनाली ने कहा कि मैं जानती थीं कि अब उन्हें Bald होना होगा और अब उन्हें अपनी तस्वीर सबके साथ सोशल मीडिया पर शेयर करनी होगी. क्यूंकि, सोशल मीडिया पर शेयर करने के बाद आप एक तरह का आराम महसूस करते हैं.

तस्वीरों में सोनाली ने ब्रैंड Prada के हेयरबैंड, पर्ल नेकलेस और स्वेटर-शर्ट पहना है. लाइट मेकअप के साथ उनकी बेहद खूबसूरत स्माइल इन तस्वीरों को और ज्यादा अट्रेक्टिव बना रही हैं. सोनाली ने जब पहली बार विग पहनी थी तब भी उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर तस्वीर शेयर की थी और कहा था कि उनका मन जब करेगा तब वो यह विग पहनेंगी और जब मन करेगा वो नहीं पहनेंगी. बता दें कि सोनाली खुलकर लोगों के सामने आ रही हैं.

हाल ही में एक इंटरव्यू में सोनाली बेंद्रे ने ट्रीटमेंट के दौरान हुए अप्स एंड डाउन्स की बातें कही . उन्होंने यह भी कहा कि कैंसर ने उन्हें “फीयरलेस” बना दिया है  और उन्हें  ख़ुशी है कि  आज वो  जिंदा हैं  .उन्होंने यह भी कहा कि “मैं  कभी से नहीं चाहती थी कि मुझे बेचारा या फिर सहानभूति के नज़रों से देखा जाए.”

कैंसर से लड़ना अपने आप में एक जंग जीतने से भी बड़ा है . क्योंकि भले ही बीमारी किसी एक को होती है लेकिन उसका असर पुरे परिवार पर होता है. सोनाली बिंद्रे एक पब्लिक फिगर है और उनकी फैन फोल्लोविंग बहुत ज्यादा है . आज जितनी ख़ुशी है लोगों में उनके स्वस्थ स्वास्थ को लेकर उतना ही दुःख का माहौल था उनके कैंसर की खबर सुनकर .

सोनाली बेंद्रे आज लोगों के सामने जिंदादिली की जीती- जागती मिसाल बनकर उभरी हैं. वो कैंसर जैसी बड़ी बीमारी से ना सिर्फ़ लड़ी बल्कि उन्होंने उसे हराकर भी दिखाया. और ये सब उन्होंने मुस्कुराते हुए किया. ये बड़ी बात है. हमारी चौपाल टीम उनके इस जज्बे, उनकी इस जिंदादिली को दिल से सलाम करती है.