अभी इस कोरोना से ही लड़ाई खत्म नही हुई, और एक नयी मुसीबत आ गयी

भारत पिछले लगभग एक वर्ष से अपने आपको मजबूती के साथ में खड़ा किये हुए है. ये जो करोना नाम की दिक्कत लगातार बनी हुई है उसने हर किसी को बहुत ही ज्यादा परेशान कर रखा है. लोग अपने घरो में बंद है और अपनी मर्जी से कही पर भी आ जा तक नही पा रहे है और मुश्किलें दिन ब दिन खराब हो रही है, लेकिन अब क्योंकि टीका बन गया है तो ऐसे में थोडा सा आराम मिल रहा था कि चलो एक बार टीका लग जाए फिर जिन्दगी आराम से गुजेगी लेकिन लग रहा है किस्मत को ये भी मंजूर है नही.

भारत के कई राज्यों में कोरोना ने दिखाया ट्रिपल म्यूटेशन
अभी भारत के कई राज्य जैसे महाराष्ट्र और बंगाल आदि में कोरोना ने अपना ट्रिपल म्यूटेशन दर्शा दिया है. म्यूटेशन का अर्थ होता है अपने अन्दर परिवर्तन लाना यानी अपने स्वरुप को ही एक तरह से बदल लेना, अब तक ये वायरस सिर्फ डबल म्यूटेट हुआ था और इस पर सरकार का कहना था कि चिंता न करे डबल म्यूटेशन तक हम इसे देख लेंगे और जो वैक्सीन बनी है वो इस पर काम भी करेगी, तो लोग निश्चिन्त हो गये.

मगर अब ये ट्रिपल म्यूटेशन है यानी एक वायरस ने तीन बार अपना चेहरा ही बदल लिया है तो ऐसे में इसकी संक्रमण की रफ़्तार कितनी तेज हो जायेगी, इसके नए लक्षण क्या होंगे और क्या पहले से बना हुआ टीका इस पर काम करेगा ये सब बाते एक सवाल बनकर के सामने उभर चुकी है और लोग इसको लेकर के काफी चिंतित है क्योंकि ट्रिपल म्यूतेंत होना अपने आप में चिंता का विषय दर्शा रहा है.

आप इस म्यूटेशन की स्थिति को इस तरह से समझिये कि ब्रिटेन और अमेरिका समेत कई देशो ने अपने देश में भारत से आने वाले लोगो के ऊपर ही फ़िलहाल के लिए रोक लगा दी है. जापान और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री जो भारत आने वाले थे उन्होंने अपना दौरा कैंसिल कर दिया है, क्योंकि जब तक ये ट्रिपल म्यूटेशन वाला राज खुलकर के सामने नही आता और वैज्ञानिक ये नही कह देते कि इस पर अपना पहले से बना हुआ टीका काम करेगा, तब तक टेंशन तो बनी रहेगी.

Related Articles