अमेरिका में इमरान खान के भाषण के दौरान हुआ कुछ ऐसा कि पाकिस्तान को होना पड़ा शर्मिंदा

3077

आपको प्रधानमंत्री मोदी का पहला अमेरिका दौरा याद होगा. मेडिसन स्क्वायर में प्रधानमंत्री मोदी ने भारतवंशियों को संबोधित किया था . अप्रवासी भारतीयों से खचाखच भरे मेडिसन स्क्वायर में पीएम मोदी का ऐतिहासिक स्वागत किया गया था .

अब भारत के पडोसी देश के पीएम इमरान खान भी इन दिनों अमेरिका के दौरे पर हैं . लेकिन उन्हें अमेरिका की तरफ से कोई तवज्जो नहीं मिल रही है .इमरान खान ने भी अमेरिका में रह रहे पाकिस्तानी मूल के लोगों को संबोधित किया . उन्हें इसकी प्रेरणा पीएम मोदी के मेडिसन स्क्वायर भाषण से ही मिली . इस कार्यक्रम के जरिये इमरान खान दुनिया को पाकिस्तान की ताकत दिखाना चाहते थे लेकिन हो गया उल्टा और इस कार्यक्रम के दौरान इमरान और पाकिस्तान की फजीहत हो गई .

दरअसल रविवार को वाशिंगटन के इमरान खान एक ऑडिटोरियम में पाकिस्तानी मूल के लोगों को संबोधित करने पहुंचे तो वहां बलूचिस्तान के समर्थकों ने उनका जमकर विरोध किया. और आज़ाद बलूचिस्तान के नारे लगाने लगे . गौरतलब है कि दुनिया के हर हिसे में बसे बलूचिस्तान के लोग पाकिस्तान का भारी विरोध करते हैं और आज़ादी चाहते हैं .बलूच लोगों का कहना है कि पाकिस्तान बलूचिस्तान में मानवाधिकारों का हनन करता है .

पाकिस्तान के सबसे बड़े प्रांत बलूचिस्तान में राजनीतिक दलों, वर्ल्ड बलोच ऑर्गनाइजेशन (WBO) और बलोच रिपब्लिकन पार्टी (BRP) ने एक जागरूकता अभियान चला रखा है. और इमरान खान के अमेरिका यात्रा का विरोध कर रह हैं . इन सबने वाशिंगटन में उनके कार्यक्रम को बॉयकाट की अपील की थी . इमरान के संबोधन के पाकिस्तान विरोधी नारे लगाने के चलते बलूचिस्तान के कुछ युवाओं को ऑडिटोरियम से बाहर निकाल दिया गया लेकिन तब तक बलूचिस्तान का मुद्दा दुनिया की नज़रों में आ गया .

16 यूरोपियन यूनियन के सांसदों ने भी राष्ट्रपति ट्रम्प को ख़त लिख कर इमरान खान से मुलाक़ात के दौरान बलूचिस्तान का मुद्दा उठाने की मांग की है .