फेमस सिंगर बादशाह फिर इस वजह से आए चर्चा में

736
हम बहुत से अभिनेताओं, गायकों और विशेष रूप से रैपर्स को उनके असली नामों से नही जानते और वो भी अपने असली नामों को पीछे छोड़ते हुए, मंच का नाम लेते हुए दिखते हैं जो बाद में उनकी पहचान बन जाता है. अक्षय कुमार, मल्लिका शेरावत और मिथुन चक्रवर्ती जैसी और भी कई हस्तियां इस लिस्ट में हैं. बादशाह भी उन लोगों की लम्बी लिस्ट में शामिल है, जो अपने मंच के नाम से पूरी दुनिया में फेमस और जाने जाते हैं.

बॉलीवुड रैपर बादशाह जल्द ही सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविज़न के फेमस कॉमेडी शो द कपिल शर्मा शो के सेट पर अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा के साथ अपनी फिल्म खानदानी शफाखाना का प्रमोशन करते नज़र आएंगे. इस शो में बादशाह अपने असली नाम का खुलासा करते नजर आएगें जो शायद ही लोगो को पता होगा और साथ ही उनका नाम बादशाह कैसे पडा वो भी दर्शकों को बताएगें. शो में कपिल शर्मा से बातचीत करते हुए बादशाह बताते है कि, ‘मेरा मंच का नाम ‘बादशाह’ शाहरुख की फिल्म ‘बादशाह’ से प्रेरित होकर रखा गया. जब 1999 में यह फिल्म रिलीज़ हुई तो ये एक बड़ी हिट थी. मेरे सभी दोस्तों को उस फिल्म से प्यार था. यह वही समय था जब मैंने बहुत सारे गीत लिखना और उन्हें लोगो के सामने गाना शुरू किया था,तब से मेरे दोस्त मुझे बादशाह कहने लगे,और इस तरह से मेरा नाम बादशाह पड गया. उन्होने आगे अपना असली नाम बताते हुए कहा कि,’ मेरा असली नाम प्रतीक सिंह सिसोदिया है, लेकिन मुझे नहीं लगता कि बहुत सारे लोग इसे जानते हैं.’

शो में सोनाक्षी सिन्हा भी यह बताती नजर आएंगी कि एक फैशन शो के दौरान उनकी पहली फिल्म ‘दबंग’ के लिए सलमान खान ने उनसे कैसे संपर्क किया था. इसके अलावा, रैपर बादशाह भी शानदार पेपी नंबर लिखने के लिए अपनी प्रेरणा के स्रोत के बारे में भी बात करते नजर आएगें.

अब बात करे फिल्म खानदानी शफाखाना की तो निर्देशक के रूप में अपना डेब्यू करनेवाली शिल्पी दासगुप्ता ने सेक्स क्लिनिक के बहाने सेक्स जैसे टैबू पर ‘बात तो करो’ टैगलाइन के साथ हल्की-फुल्की कॉमिडी परोसने की कोशिश की है. इसमें सोनाक्षी सिन्हा लीड रोल में नजर आ रही हैं. इस फिल्म में सोनाक्षी आम लोगों से सेक्स पर बात करती दिखेंगी. फिल्म एनालिस्ट की बात करें तो उन्होंने भी फिल्म को अच्छा बताया है. इसके अलावा बादशाह फिल्म खानदानी शफाखाना से अपना मूवी डेब्यू कर रहे हैं. फिल्म बीच-बीच में अपनी पकड़ खो देती है,लोकिन छोटे शहर के माहौल और मानसिकता को निर्देशक सटीक रूप से दर्शाने में कामयाब रही हैं. फिल्म का क्लाइमेक्स मजेदार है. बॉबी बेदी के रूप में सोनाक्षी सिन्हा ने काफी अच्छा काम किया है. अन्नू कपूर और कुलभूषण खरबंदा ने अपने केरेक्टर को काफी अच्छे से निभाया है. वही अगर वरुण शर्मा की बात करें तो वो भी फिल्म में टुकड़ों में मनोरंजन करते नजर आ रहे हैं. फिल्म के गानों की बात करें तो ‘कोका’, ‘शहर की लड़की’ और ‘सांस तो ले ले’ जैसे गाने ही अच्छे बन पाए हैं. कुछ लोगों ने फिल्म को अच्छा बताया है तो कुछ लोग इस फिल्म को न देखने की सलाह दे रहे हैं.