कांग्रेस से बागी हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया अब बीजेपी के हो चुके हैं. बुधवार को उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत कई नेताओं की मौजूदगी में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली है. ज्योतिरादित्य सिंधिया के अब बीजेपी में जाने से मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार पर संकट के बादल छा गये हैं. कमलनाथ को अपनी सरकार बचाना मुश्किल है. काफी लंबे समय से पार्टी के अंदर चल रहे विवाद के बाद सिंधिया और उनके 22 समर्थक विधायकों ने अपना इस्तीफा दे दिया.

जानकारी के लिए बता दें सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के कुछ देर बाद ही उनको लेकर पार्टी ने बड़ा ऐलान कर दिया. सिंधिया के बीजेपी में जाने से पहले जो खबरें आ रही थी कि बीजेपी उन्हें मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिए भेज सकती है और मोदी कैबिनेट में शामिल कर सकती है. ठीक वैसा ही हुआ. बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करने के बाद पार्टी ने सिंधिया को एमपी से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित कर दिया. बीजेपी को ज्वाइन करने के बाद उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कई बात कही थी.

भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद सिंधिया ने आधी रात को एक ट्वीट किया जिसने सभी को विचलित कर दिया. उन्होंने अपने इस फ़ैसले को जिंदगी का टर्निंग पॉइंट करार दिया. इसके बाद उन्होंने भाजपा में शामिल होने के लिए पीएम मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा का स्वागत किया. उन्होंने आधी रात को ट्वीट करते हुए कहा कि ‘मुझे स्वीकार करने और मेरा स्वागत  करने के लिए भाजपा परिवार और जेपी नड्डा जी, नरेंद्र मोदी जी, अमित शाह जी और भाजपा परिवार का शुक्रिया. यह मेरी जिंदगी का ना केवल टर्निंग प्वाइंट है, बल्कि पीएम मोदी जी के प्रेरणादायक नेतृत्व में जनसेवा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को जारी रखने का अवसर भी है.’

गौरतलब है कि लंबे समय तक कांग्रेस नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपना इस्तीफा देकर कांग्रेस की सरकार को गिरने के कगार पर पहुंचा दिया है. 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस ने अपने अब 90 विधायकों को जयपुर के पास एक रिजोर्ट में भेज दिया है. वहीं भाजपा ने अपने विधायकों को गुरुग्राम के एक लग्जरी होटल में भेज दिया है. वहीं इस्तीफा देने वाले विधायकों को बेंगलुरु के एक होटल में रखा गया है.