पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद महाराष्ट्र में सियासी हलचल तेज, संजय राउत ने बांधे पीएम मोदी की तारीफों के पुल

130

पिछले दिनों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिल्ली आ कर पीएम मोदी से मुलाकात की थी. यूँ तो उनके साथ एनसीपी के नता भी मौजूद थे. लेकिन इस आधिकारिक मुलाकातके बाद उद्धव ठाकरे ने अकेले में भी पीएम मोदी से 10 मिनट तक मुलाकात की. जिसके बाद कयासों का दौर शुरू हो गया कि क्या एक बार फिर भाजपा और शिवसेना साथ आने जा रहे हैं. इन कयासों को अब और बल इसलिए मिल रहा है क्योंकि इस बंद कमरे में हुई मुलाकात के बाद पीएम मोदी को लेकर शिवसेना के सुर बदल गए हैं.

शिवसेना की तरफ से भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोलने में सबसे आगे संजय राउत रहते हैं. महाराष्ट्र में भाजपा से अलग हो कर महाविकास अघाड़ी की सरकार बनाने के लिए शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस को एक साथ लाने का श्रेय भी संजय राउत को ही जाता है. लेकिन उद्धव ठाकरे और पीएम मोदी की मुलाक़ात के बाद संजय राउत ने पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांधे हैं और उन्हें मौजूदा दौर में देश का सबसे लोकप्रिय नेता बताया है.

दरअसल संजय राउत से पूछा गया था कि मीडिया में खबरें आई हैं कि आरएसएस राज्यों के चुनावों में राज्य के नेताओं को चेहरे के रूप में पेश करने पर विचार कर रहा है. ऐसे में क्या उन्हें लगता है कि मोदी की लोकप्रियता कम हुई है? तो इसका जवाब देते हुए संजय राउत ने कहा, ‘मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहता. मैंने मीडिया में आईं खबरें नहीं देखी है. इस बारे में कोई आधिकारिक बयान भी नहीं आया है. पिछले सात साल में बीजेपी की सफलता का श्रेय मोदी को जाता है. वह अभी देश और अपनी पार्टी के शीर्ष नेता हैं.’

माना जा रहा है कि पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे के बीच अकेले में हुई मुलाकात का इस्तेमाल शिवसेना ने एनसीपी को साधने के लिए किया है. शिवसेना ने एनसीपी को एक तरह से संकेत भेज दिया है कि वो सरकार में ज्यादा हावी होने की कोशिश न करे क्योंकि भले ही इस वक़्त शिवसेना और भाजपा अलग अलग है लेकिन पीएम मोदी से उद्धव ठाकरे की दूरियां नहीं है और वो कभी भी एक हो सकते हैं.