शेहला रशीद ने सेना के बारे में फैलाई फेक न्यूज, दर्ज कराया गया मुकदमा

1653

कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद सरकार कश्मीर में हालात सामान्य बनाए रखने की कोशिशे कर रही है . लेकिन अपने ही देश के लिबरल गैंग की ये कोशिशें है कि कश्मीर में हालात सामान्य न होने पाए. इसी लिबरल गैंग की सदस्य है शेहला रशीद . यूँ तो शेहला JNU से PHD कर रही है लेकिन अगर उनके ट्विटर टाइम लाइन पर नज़र डाली जाए तो फेक न्यूज की भरमार मिलेगी और ऐसा लगेगा जैसे वो फेक न्यूज फैलाने में ही PHD कर रही हो.

रविवार को शेहला ने एक के बाद एक 10 ट्वीट कर के कश्मीर में तैनात सुरक्षा बलों पर कई इलज़ाम लगाए. लेकिन सुरक्षा बलों और भारतीय सेना ने शेहला के आरोपों को आधारहीन और फर्जी बताते हुए खारिज कर दिया . शेहला ने भारतीय सेना पर कश्मीरियों के उत्पीडन के आरोप लगाए जिससे लोग भड़क गए और ट्विटर पर अरेस्ट शेहला रशीद ट्रेंड करने लगा. लोगों का भड़कना जायज भी था, शेहला ने जिस तरह के आरोप सेना पर लगाए थे, उससे ये तय करना मुश्किल था कि ये ट्वीट किसी भारतीय ने किया है या किसी पाकिस्तानी ने. पाकिस्तान से भी कश्मीर का माहौल बिगाड़ने के लिए ऐसे ही ट्वीट किये जा रहे हैं और भारतीय सेना पर कश्मीरियों पर बर्बरता के आरोप लगाये जा रहे हैं. ट्विटर पर लोग गृह मंत्रलाय से सवाल करने लगे कि शेहला को गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा ?

शेहला ने अपने एक ट्वीट में लिखा कि “भारतीय सेना आधी रात को कश्मीरी लोगों के घरों में जा कर लड़कों को उठा रही है, घर को तहस नहस कर रही है , चावल में तेल मिला रही है और राशन को फर्श पर बिखेर रही है।”

एक अन्य ट्वीट में शेहला ने लिखा “शोपियां में 4 लोगों को आर्मी कैम्प में पूछताछ के लिए बुलाया गया और उन्हें टॉर्चर किया गया। उनके मुंह के पास माइक रह कर उन्हें इतना टॉर्चर किया गया कि उनकी कराह से पूरा इलाका गूँज उठा। इससे पुरे इलाके में डर का माहौल बनाया जा रहा है।”

भारतीय सेना ने ट्वीट कर शेहला के सभी दावों को आधारहीन बताया और खारिज कर दिया. हालाँकि ये पहली बार नहीं है कि शेहला ने कश्मीर के लोगों को भड़काने के लिए फर्जी ट्वीट किये हों. जब से कश्मीर पर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है तभी से शेहला से लगातार ऐसे ट्वीट करती आ रही है.

शेहला, शाह फैसल की राजनीतिक पार्टी जम्मू- कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट की सदस्य भी हैं. सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने भारतीय सेना और भारत सरकार के खिलाफ फेक न्यूज फैलाने के लिए शेहला रशीद के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराया है. अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर शेहला रसीद जैसे लोग देश का माहौल बिगाड़ते हैं और फिर रोना भी रोते हैं कि देश में उनकी आवाज दबाई जा रही है और असहिष्णुता आ गई है.