अपनी हरकत से शशि थरूर की हो गई फजीहत, महज 15 दिन में ही ऐसा यूटर्न मारा कि लोग हो गए हैरान, जम कर सुनाई खरीखोटी

511

कांग्रेस एक बेहद कन्फ्यूज्ड पार्टी है औ इसके नेता भी. इनका एक ही मकसद है, चाहे कुछ भी हो जाए मोदी सरकार का विरोध करना है. फिर चाहे उसके लिए अपनी ही कही बात से यूटर्न ही क्यों न लेना पड़े. और इसी वजह से कांग्रेस नेता शशि थरूर की सोशल मीडिया पर फजीहत हो रही है. शशि थरूर अपनी ही कही बात से महज 15 दिनों में मुकर गए और मोदी सरकार की आलोचना करने लगे. आइये आपको बताते हैं कि पूरा मामला क्या है?

पिछले दिनों दिल्ली की सड़कों पर टाँगे गए वो बैनर तो आपको याद ही होंगे जिसमे वैक्सीन की कमी के लिए पीएम मोदी को निशाना बनाया जा रहा था और पूछा जा रहा था कि ‘मोदी जी, आपने हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी?’ कांग्रेस ने इस पोस्टर को सोशल मीडिया पर भी वायरल किया. दरअसल वैक्सीन मैत्री के जरिये भारत ने दुनिया के कई देशों में वैक्सीन की सप्लाई की. अब कांग्रेस और उसके नेताओं को तो हर बात का विरोध करना है. लिहाजा कांग्रेस ने वैक्सीन मैत्री का विरोध करते हुए कहा कि जब अपने देश के नागरिकों को ही वैक्सीन नहीं लग पा रही तो दूसरे देशों को वैक्सीन भेजने की क्या जरूरत है.

तब शशि थरूर ने 16 मई को किए अपने ट्वीट में उन्होंने कहा था, ‘कोविड मरीजों की मदद करने की जगह भारत सरकार की दिल्ली पुलिस ने इन पोस्टरों को लगाने के लिए 17 एफआईआर दर्ज की हैं. पुलिस ने पोस्टर लगाने के लिए मजदूरों, पेन्टर और ऑटो ड्राइवरों को गिरफ्तार किया है. उनके सपोर्ट में मैं भी यह पोस्टर शेयर कर रहा हूं.’ 

उसके बाद सरकार ने अपने देश की जरूरत को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने वैक्सीन के निर्यात पर प्रतिबन्ध लगा दिया. इस पर भी शशि थरूर ने मोदी सरकार की आलोचना शुरू कर दी. इस बार उन्होंने हवाला दिया WHO की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन के बयान का. WHO की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि मोदी सरकार के इस फैसले से दुनिया के 91 देशों पर बुरा असर पड़ा है. 

अब शशि थरूर ने सौम्या स्वामीनाथन के बयान को लपक लिया और ट्वीट करते हुए कहा, ‘जब WHO की एक सीनियर वैज्ञानिक और प्रतिष्ठित भारतीय ऐसा कहे कि मोदी सरकार के वैक्सीन निर्यात के फैसले से 91 देशों पर बुरा असर पड़ा है, तो कथित होने वाले ‘विश्वगुरु’ और उनकी सरकार को अपना सिर शर्म से झुका लेना चाहिए.’

मतलब ये कि कांग्रेसी नेताओं को किसी बात पर चैन नहीं है. उनके जीवन का बस एक ही लक्ष्य है मोदी सरकार की आलोचना. वैक्सीन बाहर भेजो तो दिक्कत, न भेजो तो दिक्कत. लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों की नज़रों में ये कांग्रेसी नेताओं की नियत में खोट है. तभी तो लोग शशि थरूर को जम कर ट्रोल कर रहे हैं और उनकी खूब फजीहत हो रही है.