कैसे हुई शशि थरूर की “50 करोड़ की गर्लफ्रेंड” मौत ?

483

खूबसूरत चेहरा..

मनमोहक मुस्कान..

बेफिक्र मिजाज़..

और जिंदादिल स्वभाव..

ऐसी थी सुनंदा पुष्कर, कांग्रेस नेता शशि थरूर की तीसरी पत्नी.. इनके प्यार के किस्से अखबारों की सुर्खियाँ बना करते थे… पहले दोस्ती.. फिर प्यार. फिर शादी बड़ी खूबसूरत सी प्रेमकहानी थी इनकी.. लेकिन अचानक एक दिन खबर आई कि सुनंदा पुष्कर ने दिल्ली के 5 स्टार होटल में आत्महत्या करली.. और तमाम सुबूतों के आधार पर उनकी इस मौत का जिम्मेदार माना गया उनके पति शशि थरूर को.. शशि थरूर पर अपनी पत्नी सुनंदा को आत्म्हत्या के लिए उकसाने का आरोप है, इस मामले पर 21 फरवरी को सेशंस कोर्ट में सुनवाई होगी.

सुनवाई में जो फैसला आएगा वो हम आपको तभी बता पाएंगे.. लेकिन आज इस खबर ने एक बार फिर उन दिनों को ताज़ा कर दिया है जब इनके प्यार के किस्से अखबार और news चैनल्स की सुर्खियाँ बना करते थे..  

शशि थरूर और सुनंदा पुष्कर की पहली मुलाकात 2008 में दिल्ली के इंपीरियल होटल में एक अवार्ड समारोह के दौरान हुई थी। सुनंदा उस संस्था से जुड़ी हुई थी और थरूर उसके ट्रस्टी थे। इससे पहले दोनों एक-दूसरे को बहुत ज्यादा नहीं जानते थे। खैर उनका यह प्यार पहली नजर वाला प्यार नहीं था.. यहाँ दोनों में दोस्ती हुई इसके बाद उनकी दूसरी मुलाकात दुबई में हुई। उस समय सुनंदा दुबई में ही रहती थी। दोनों के बीच ढेर सारे विषयों पर बातें होती रहती जिससे वे एक-दूसरे के और करीब आते गए और यहां से दोनों के बीच करीबी बढ़नी शुरू हो गई।

थरूर ने सबसे पहले सुनंदा को अपने प्यार का इजहार एक गवर्नमेंट गेस्ट हाउस में किया था। इसके बाद ऑफिशियल प्रपोजल 2010 में कसौली में दिया और फिर दोनों ने सगाई कर ली । 22 अगस्त 2010 को इनके दो साल का रिलेशनशिप शादी में तब्दील हो गया। थरूर और सुनंदा दोनों की ही यह तीसरी शादी थी। दोनों पब्लिकली भी अपना प्यार का इज़हार करने में पीछे नहीं हट्ते थे.. शशी अक्सर सुनंदा को अपने कार्यक्रमों में लेके जाते थे.. उनका हाथ पकड़ कर चलना.. एक दुसरे को देखकर मुस्कुराते रहना.. फ़्लर्ट करते रहना.. सभी को याद है.. दोनों की तीसरी शादी थी और दोनों ही इसे ताउम्र निभाना चाहते थे… लेकिन शादी के कुछ वक़्त बाद दोनों के बीच दरारों की बात सुनने में आने लगी..

15 जनवरी 2014 को  ट्विटर पर बवाल हुआ. शशि थरूर के ट्विटर अकाउंट से कुछ स्क्रीनशॉट्स पोस्ट हुए. मालूम पड़ा कि पाकिस्तान की जर्नलिस्ट मेहर तरार ने शशि थरूर को पर्सनल मेसेज भेजे थे, वो उसी के स्क्रीनशॉट्स थे. मेसेजेज़ ‘पर्सनल’ थे और उसमें मेहर ने ये लिखा था कि वो शशि से प्यार करती हैं. शशि थरूर ने थोड़ी ही देर में कहा कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक हो गया था और इसके बाद उनका अकाउंट डी-एक्टिवेट हो गया.

और फिर अचानक 2 दिन बाद 17 जनवरी 2014 को खबर आई कि सुनंदा दिल्ली के लीला पैलेस होटल के लक्ज़री सुइट न. 345 में मृत पाई गई… और हर कोई सन्न रह गया.. डॉक्टर्स के मुताबिक़ सुनंदा तनाव में थी उन्होंने जहर खाया था  

उनके फ़ोन से आखिरी ट्वीट उनके दोस्त को गया था जिसमे लिखा था

“क्या पता मैं कब दुनिया से चली जाऊं.. पर जब जाउंगी.. तो ही ख़ुशी से रह पाउंगी”

MEHAR TARAR

बताया गया कि सुनंदा ने अपने पति शशि थरूर और पाकिस्तानी जर्नलिस्ट मेहर तरार के बहुत ही अन्तरंग मेसेजस पढ़ लिए थे, जिनसे वो बहुत आहत हुई थी.. और गुस्से में शशि से लड़कर तलाक की मांग करते हुए घर से निकल गई और आत्महत्या कर ली.

शुरूआती ख़बरों के मुताबिक़ सुनंदा ल्युपस नाम की बीमारी से ग्रसित थी.. जिसके चलते वो डिप्रेशन में भी चली गई थी.. ऐसे में पति के सपोर्ट की बजाय जब उन्हें पति के एक्स्ट्रा मरिटल अफेयर के बारे में पता चला तो उन्होंने ख़ुदकुशी कर ली.

कयास लगाये जाने लगे कि सुनंदा अपनी बीमारी… पति का विवाहेतर संबंध और मीडिया की लगातार दखलंदाजी सेइस कदर डिप्रेशन में चली गई कि उन्होंने आत्महत्या कर ली..

इस दौरान वो बिलकुल अकेली और असहाय थी… तनाव में थी.. दर्द में थी.. और धोखे में भी .. लेकिन अगले ही दिन ख़ुदकुशी का यह मामला क़त्ल में बदल गया.. जब पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई.

19 जनवरी 2014 को पुष्कर का पोस्टमार्टम एम्स में हुआ था. वहां के डॉक्टर्स ने बताया कि सुनंदा के शरीर पर 12 से ज़्यादा निशान थे. इसमें से एक उनके गाल पर था जो ये बताता है कि उनके चेहरे को तेज़ चोट पहुंची और साथ ही इंसानी दांतों से काटे जाने का एक निशान उनके बायें हाथ पर था. उनके शरीर में ऐसा कुछ भी नहीं मिला जिससे ये कहा जा सकता कि सुनंदा की मौत दवाइयों के ओवरडोज़ से हुई थी. उनके शरीर में ‘एल्प्राज़ोलम’ (एक एंटी-एन्ग्ज़ाइटी ड्रग की नाममात्र मात्रा में मौजूदगी मिली थी. डॉक्टर्स ने ये भी कहा कि उनकी मौत गैर-प्राकृतिक और अचानक हुई.

2 जुलाई 2014 को  सुनंदा के पोस्टमार्टम डॉक्टर सुधीर गुप्ता का बयान आया.. सुधीर ने लिखित रूप में ये बताया कि उनपर ‘मामले को सुलटाने’ और झूठी रिपोर्ट तैयार करने का दबाव बनाया जा रहा है. इसके बाद सुधीर गुप्ता ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि सुनंदा की देह पर 15 निशान थे जिसमें एक भी उनकी मौत का ज़िम्मेदार नहीं हो सकता. उनके शरीर पर एक इंजेक्शन का निशान भी था और दांतों से काटे जाने के भी कुछ निशान थे. इसके साथ ही ये भी मालूम चला कि सुनंदा के पेट में काफ़ी मात्रा में ‘एल्प्राज़ोलम’ मिला था.  ‘एल्प्राज़ोलम’ असल में एंटी-एन्ग्ज़ाइटी ड्रग होता है जबकि  19 जनवरी को आई रिपोर्ट में लिखा था कि सुनंदा के पेट में ‘एल्प्राज़ोलम’ की काफ़ी छोटी मात्रा मिली थी.

10 अक्टूबर 2014 को एम्स के डॉक्टर्स ने शरीर के ऑर्गन्स की जांच रिपोर्ट दिल्ली पुलिस को सौंपी थी. और इसी के आधार पर दिल्ली के पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी ने कहा कि सुनंदा पुष्कर ने ख़ुदकुशी नहीं की है बल्कि मर्डर का केस है.

पत्नी को धोखा देने के लिए और उससे क्रूरता से पेश आने के लिए शशि थरूर पर IPC धारा 498-A और आत्महत्या के लिए उकसाने और मजबूर करने के लिए IPC धारा 306  लगी है.. इस मामले पर अगली सुनवाई 21 फरवरी को होगी.

यह खूबसूरत प्रेम कहानी थी या सुनंदा के साथ धोखा.. पता नहीं..लेकिन इस कहानी का इतना दुखद अंत होगा कोई नहीं जानता था. उम्मीद है सुनंदा पुष्कर को जल्द से जल्द न्याय मिले और जो भी उनकी मौत के ज़िम्मेदार हैं उन्हें सजा.