शरजील इमाम ने कबूल किया अपना जुर्म, पुलिस की पूछताछ में किये कई अहम खुलासे

1650

 पूर्वोत्तर को देश से काट कर अलग कर देने वाले भड़काऊ बयान के कारण देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार द वायर के कर्मचारी और JNU के छात्र शरजील इमाम ने पुलिस पूछताछ में कई खुलासे किये हैं. दिल्ली की साकेत कोर्ट ने शरजील को 5 दिनों कि पुलिस रिमांड पर भेजा है. क्राइम ब्रांच की टीम शरजील इमाम से पूछताछ कर रही है.

शरजील ने स्वीकार किया है कि वायरल वीडियो उसी का है. इस वीडियो के साथ कीस तरह की छेड़छाड़ नहीं की गई है. उसने कहा कि उसने एक घंटे का भाषण दिया और भाषण के दौरान जोश में आ कर असम को अलग करने की बात कह दी.

उसने पूछताछ में बताया कि जैसे ही उसे पता चला कि उसके खिलाफ FIR दर्ज हो गई है, वो अंडरग्राउंड हो गया. 25 जनवरी को फुलवारी शरीफ में CAA के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में भाषण देने पहुंचा था तभी उसे पता चला कि उसके खिलाफ FIR दर्ज हो गई है. उसके बाद वो तुरंत जहानाबाद के अपने पैत्रिक गाँव काको पहुंचा. उस गाँव में शरजील के परिवार का बहुत दबदबा है इसलिए किसी ने उसे कुछ नहीं कहा. उसके बाद चार दिनों तक वो मोबाइल बंद कर गाँव में ही छुपा रहा.

पुलिस के मुताबिक़ वो अपने गाँव के इमामबाड़ा में छुपा हुआ था. इमामबाड़ा का इस्तेमाल ताजिया रखने के लिए करते हैं. पुलिस के मुताबिक़ अगर पुलिस अन्दर जाती तो काफी बखेड़ा खड़ा होता और माहौल बिगड़ने की आशंका थी इसलिए उसके बाहर आने का इंतज़ार किया गया. उसे बाहर लाने के लिए उसी के पहचान वाले लोगों की मदद ली गई. जैसे ही वो इमामबाड़ा से बाहर निकला, पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.