शेयर बाज़ार का हाल Modi Version2.0 में

1095

बीजेपी के चुनाव में प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में वापसी हुई है… देश में लोकतंत्र को लेकर ख़ुशी की लहर है और शेयर बाज़ार भी उछाल मार रहा… एक तरफ सेंसेक्स 40000 तक पहुच गया है वहीँ दूसरी और निफ्टी 12000 तक… बाजार विश्लेषकों को पूरी उम्मीद है कि इस सप्ताह भी निवेशकों का उत्साह कायम रहेगा, जिसके बूते बाजार नए रिकॉर्ड बना सकता है… हालांकि, वैश्विक स्तर पर जारी तनाव इस पर कुछ हद तक असर डाल सकते हैं… यह खबर सरकार और अर्थ व्यवस्था के लिए बहुत सही है…वैसे भी बीजेपी को लोकसभा चुनाव में 303 सीट मिलना राजनीति के साथ साथ शेयर बाज़ार के किए भी लाभ दायक है ….

हालांकि शेयर मार्किट अनिश्चितता पर टिकी हुई है.. शेयर बाजार गठबंधन की जगह एक मजबूत और स्थिर सरकार को तवज्जो देता है, क्योंकि यह आर्थिक नीतियों की countinityity को decide करता है….
यस सिक्योरिटीज के अध्यक्ष और प्रमुख शोधकर्ता अमर अंबानी का कहना है कि शेयर बाजार भरोसा चाहता है और भाजपा के मजबूत जनादेश से निवेशकों को अगले पांच वर्षों के लिए स्थिर सरकार, प्रशासन और विकास के एजेंडे लागू रहने की उम्मीद है….. बाजार में यह भरोसा आने वाले दिनों में भी कायम रहेगा…. हालांकि, वैश्विक तनाव, कंपनियों की आय, नकदी तरलता की स्थिति जैसे कारकों का भी बाजार पर कुछ हद तक असर दिखेगा…

मोदी सरकार के जीत के बाद निवेशकों को भी काफी फायदा मिलेगा… जिन्होनें भी शेयर बाज़ार में निवेश किया था
एचडीएफसी सिक्योरिटीज के एमडी और सीईओ धीरज रेली कहते हैं, “निवेशकों के पास अब आर्थिक नीतियों की राजनीतिक स्थिरता और भविष्यवाणी है… स्पष्ट जनादेश बाजारों से अनिश्चितता की अधिकता को हटा देता है… यह बाजार धारणा के लिए और विश्व को आकर्षित करने के लिए एक महत्वपूर्ण सकारात्मक कदम है”

बीते सप्ताह सेंसेक्स 40 हजार के नीचे और निफ्टी 12 हजार के नीचे बंद हुआहै… बाजार का आकलन हम इस गिरावट से नहीं कर सकते, क्योंकि बाजार में बड़ा उछाल केवल चुनाव परिणामों का नतीजा था और उसके बाद मुनाफावसूली से इसमें गिरावट आई…. विशेषज्ञों का कहना है कि निवेशकों को कोई भी फैसला बाजार में अचानक आई इस तेजी के आधार पर नहीं करना चाहिए…..यूनियन म्यूचुअल फंड के सीईओ जी. प्रदीप कुमार ने कहा, ‘सेंसेक्स का 40,000 पर या निफ्टी का 12,000 पर होना बस आंकड़े हैं और लंबे वक्त के लिए निवेश करने वाले निवेशकों का इससे कोई लेना-देना नहीं है। उन्हें बाजार की दीर्घकालिक संभावनाओं पर विचार करना चाहिए….”

वहीँ सैम्को सिक्योरिटीज के संस्थापक व सीईओ जिमीत मोदी का कहना है कि लगातार उछाल की ओर जा रहे शेयर बाजार में अस्थिरता आने की काफी आशंका रहती है… ऐसे में निवेशकों को सतर्क रहने की जरूरत है….. उन्होंने कहा कि बाजार पहले ही काफी बढ़त पा चुका है और इस बात की बड़ी संभावना है कि वैश्विक चुनौतियों के कारण अब यह ढलान की ओर चले। लिहाजा निवेशकों को मौद्रिक नीति और पूर्ण बजट तक सतर्क रुख अपनाते हुए देखो और इंतजार करो की नीति पर चलना चाहिए…

बहरहाल अस्थिरता बाजार का हिस्सा है, लेकिन यह ज्यादा वक्त तक हावी नहीं रहता है… लोकसभा चुनाव जैसे विभिन्न मौकों पर बाजार में तेजी आना स्वाभाविक है, लेकिन अंततः यह सामान्य स्तर पर आ जाता है…. लेकिन पूर्ण बहुमत की सरकार की वहज से यह हमारे देश के economic ग्रोथ के लिए बहुत अच्छा है…