शाहीन बाग़ में बंद सड़क खुलवाने के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा आदेश

3208

पिछले दो महीनों से शाहीन बाग़ में प्रदर्शनकारियों द्वारा बंद सड़क को खुलवाने के मामले पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी बात कही है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ‘लोगों को अपनी आवाज समाज तक पहुंचाने का अधिकार है. हम अधिकारों की रक्षा के विरोध के खिलाफ नहीं हैं. लोकतंत्र में अपनी आवाज जरूर पहुंचाएं. आप दिल्ली को जानते हैं, यहां के ट्रैफिक को भी जानते हैं. हर कोई सड़क पर उतरने लगे तो क्या होगा? यह जनजीवन को ठप करने की समस्या से जुड़ा मुद्दा है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नियम के मुताबिक, प्रदर्शन करने की जगह जंतर-मंतर है. अगर हर कोई ऐसे ही सड़क पर उतरने लगा तो क्या होगा? दिल्ली के लोग कहाँ जायेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने के लिए एक मध्यस्त नियुक्त किया है. कोर्ट ने वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े के साथ वकील साधना रामचंद्रन को वार्ताकार के तौर पर नियुक्त किया है. इसके साथ ही वजहत हबीबुल्लाह, चंद्रशेखर आजाद इस दौरान वार्ताकारों की मदद करेंगे.

कोर्ट ने कहा कि 64 दिनों से प्रदर्शनकारियों ने सड़क को ब्लॉक कर रखा है लेकिन आप अप तक उन्हें सड़क खाली करने को मना नहीं पाए हैं. इसलिए हम वार्ताकार नियुक्त कर रहे हैं. अगर बातचीत से हल नहीं निकलता है तो हम अथॉरिटी को एक्शन के लिए खुली छूट देंगे. मामले की अगली सुनवाई 24 फ़रवरी को होगी.