दिल्ली विधानसभा चुनाव ख’त्म हो गया है और दिल्ली के चुनावी परिणाम की घोषणा हो गई है. जिसमे अरविन्द केजरीवाल ने प्रचं’ड बहुमत के साथ तीसरी बार सत्ता की कुर्सी पर 62 सीटों के साथ काबिज हुए हैं. बीजेपी को दिल्ली चुनाव में बड़ा झ’टका लगा है और उसको सिर्फ 8 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है. वहीँ कांग्रेस का खाता इस बार भी नहीं खुला और उसकी जमा’नत ज’ब्त हो गई है.

दिल्ली की कुछ वक़्त से पहचान बनता जा रहा है शाहीन बाग. जो दिल्ली चुनाव में काफी हद तक एक चुनावी मु’द्दा बन चूका था. शाहीन बाग में CAA के विरो’ध में लोग धर’ना दें रहें है. वहीँ चुनाव ख’त्म होने बाद शाहीन बाग में लोगो की मौजूदगी कम होती दिख रही है. इससे यही लगता है की क्या ये शाहीन बाग का मु’द्दा विप’क्षी पार्टी की ही देंन था. चुनाव के बाद शाहीन बाग प्रद’र्शनस्थल पर पहले के मुकाबले भी’ड़ कम हो गई है. अब तो नौबत ये आ गई है कि शाहीन बाग में धर’ना प्रद’र्शन करने के लिए मंच से ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगो को जुटाने की कोशिस की जा रही है. गुरुवार के दिन भी मंच से लाउडस्पीकर पर लोगों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में यहां पहुंचने की अपील की जा रही थी. वहीं, पुल’वामा हम’ले की पहली बर’सी को देखते हुए 14 और 15 फरवरी को शाहीन बाग में कोई राज’नीतिक भा’षण नहीं होगा ऐसा कहा गया है. दोनों दिन यहां सिर्फ देशभक्ति कार्यक्रम आयोजित होंगे.

दरअसल, शाहीन बाग में जो लोग प्रर्द’शन कर रहे है. उनका कहना है कि भारत सरकार अपने किसी नुमांइदे को यहां पर भेजे जो हम लोगो से आकर बात करें. लेकिन कल की बात है की लोगो ने ये अपील करी की वेलेंटाइन डे की पूर्व संध्या पर शाहीन बाग के लोगो ने प्रधानमंत्री के नाम से गुलदस्ते बनाकर रखे हैं. उन पर अंग्रेजी में लिखा है कि ‘मोदी कृपया शाहीनबाग में आइए’. वहां के लोगो ने ये भी कहा की ‘प्रधानमंत्री ने दिल्ली के चुनाव में प्रचार करते टाइम अपने चुनावी भाष’णों में कई बार शाहीन बाग में प्रद’र्शन का जिक्र कर चुके हैं. तीन तलाक के मुद्दे पर भी उन्होंने मुस्लिम महिलाओं के प्रति अपनी चिंता जाहिर की थी और मुस्लिम महिलाओं को तीन तलक से आज़ादी दिलवाई थी तो अब क्या मोदी को शाहीन बाग की महिलाओं की चिंता नहीं है जो यहाँ पर धर’ना दे रही हैं. अगर इतनी ही चिंता है तो वह उनसे मिलने शाहीन बाग क्यों नहीं आते.

शाहीनबाग में प्रद’र्शन”स्थल पर गुरुवार को पुल’वामा हम’ले की पूर्व संध्या पर मंच के सामने लोगों ने बड़ी संख्या में मोमबत्तियां जला’कर शही’दों को अपनी श्रद्धांजलि दी. 14 फरवरी 2019 को पुल’वामा जिले के लेथपोरा में सुरक्षा कर्मियों के वाहनो पर हम’ला हुआ था जिसकी वजह से 40 जवान शही’द हो गए थे. वहां पर मौजूद लोगो को सीएए कानून के संबंध में जागरूक किया गया. लेकिन वह धरने पर बैठे लोग एक तरफ कहते है की मोदी ने देश के संविधान को ख’तरे में डाल दिया है. कोई उन लोगों को बताओ जो लोग  शाहीन बाग में रोड जा’म कर के धर’ना प्रद’र्शन कर रहे है और वहां के आस पास के लोगो को दिक्क’त का सामना करना पड रहा है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी ऐसे कोई भी रोड जा’म कर के धर’ना नहीं दे सकता है. ये करने से संविधान की र’क्षा हो रही है क्या ये करने के बाद सविंधान ख’तरे में नहीं पड़ रहा है.