हरियाणा-महाराष्ट्र में वोटिंग से लोगों को ये जानकारी जरूर जाननी चाहिए

278

महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव होने ही वाले हैं. ऐसे में वोटरों को ये जानने की सबसे जायदा जरूरत होती है परखने की जरूरत होती है कि उनका उम्मीदवार कैसा है? उसकी छवि कैसी है? उसका स्वभाव कैसा है? जल्द ही इन दोनों राज्यों में वोटिंग होने वाली है ऐसे में आज हम  आपको ये बताने जा रहे हैं कि किस राज्य में कितने और किस पार्टी से अपराधिक छवि वाले नेता चुनावी मैदान में है.
हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 में किस्मत आजमा रहे 1169 में से 1138 उम्मीदवारों के शपथपत्र की जांच एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने की है. इनमें से 117 लोगों पर आपराधिक मामले दर्ज है जो कि कुछ उम्मीदवारों का 10 फीसद है. कुल 70 उम्मीदवारों यानि 7 फीसद पर इस बार गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

 87 में से 8 यानि 9 फीसद कांग्रेस उम्मीदवार, 87 में से 6 यानि 7 फीसद जननायक जनता पार्टी के उम्मीदवार, 86 में से 9 यानि 11 फीसद बसपा उम्मीदवार और भाजपा के 89 में से एक उम्मीदवार के खिलाफ गंभीर आपराध वाले मामले दर्ज हैं. इनमें पांच उम्मीदवार ऐसे भी शामिल है जिनपर महिलाओं के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं, 2 के खिलाफ तो आईपीसी की धारा 376 के तहत दुष्कर्म और दो पर हत्या की कोशिश करने का आरोप है. कुल 11 लोगों को दोषी भी साबित किया जा चुका है. यहाँ आपको बता दें कि गैर जमानती अपराध, चुनाव से संबंधित अपराध, रिश्वतखोरी, सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने, हमला, हत्या, अपहरण, दुष्कर्म से संबंधित अपराधों को गंभीर प्रवृत्ति को माना जाता है

इसके साथ ही आपको ये बता दें कि एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट के अनुसार विश्लेषित 1138 उम्मीदवारों में से 481 यानि 42 फीसद उम्मीदवार करोड़पति हैं. हिसार के नारनौद सीट से भाजपा उम्मीदवार कैप्टन अभिमन्यु, कुलदीप विश्नोई हिसार की आदमपुर सीट से कांग्रेस उम्मीदवार, चरखी दादरी जिले की बढरा सीट से जननायक जनता पार्टी ने नैना सिंह धन्ना सेठों में शामिल है.

वहीँ अगर बात महराष्ट्र की करें तो 3237 उम्मीदवार चुनाव मैदान हैं। संस्था ने इसमें से 3112 उम्मीदवारों के चुनाव आयोग की वेबसाइट पर मौजूद शपथ पत्र का अध्ययन किया है. रिपोर्ट के मुताबिक 29 फीसद लोगों पर अपराधिक मामले दर्ज हैं. जबकि 19 फीसद उम्मीदवारों पर गंभीर किस्म के आपराधिक मामले दर्ज हैं. नेशनल पार्टियों के 716 उम्मीदवार हैं, जिनमें से 692 उम्मीदवारों के शपथ पत्र का अध्ययन किया गया है. स्टेट पार्टियों के 309 उम्मीदवार हैं जिनमें से 300 के शपथ पत्र की जाँच की गयी है. 1409 निर्दलीय उम्मीदवार हैं, जिनमें से 1359 के शपथ पत्र का विश्लेषण किया गया है. 3112 उम्मीदवारों में से 916 (29 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. इसके अलावा इस बार 600 (19 फीसद) उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर किस्म के आपराधिक मामले दर्ज हैं. पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले इस बार आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों में चार-पांच फीसद की कमी दर्ज की गई है. 67 ऐसे हैं, जिन पर महिलाओं के खिलाफ अपराध का मुकदमा, 19 उम्मीदवारों पर हत्या का मुकदमा, 60 उम्मीदवारों के खिलाफ हत्या का प्रयास का मामला दर्ज है. सबसे ज्यादा 63 फीसद आपराधिक छवि वाले उम्मीदवार नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP).. 48 फीसद अपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों के साथ शिवसेना दुसरे नंबर है.

महाराष्ट्र चुनाव मैदान में 453 उम्मीदवार ऐसे हैं, जिनकी संपत्ति पांच करोड़ रुपये या इससे ज्यादा, 304 उम्मीदवारों की संपत्ति दो करोड़ रुपये से पांच करोड़ रुपये के बीच है. कुल मिलकर अगर देखा जाए तो 1007 उम्मीदवार ऐसे हैं जो करोड़पति हैं.

मुझे उम्मीद है कि अगर आप वीडियो अंत तक देखे होंगे तो आपको समझ आया होगा कि कौन सी पार्टी ने किस तरह के उम्मीदवारों को टिकट देकर आपके बीच भेजा है.