लोजपा और एनडीए के बीच सीट शेयरिंग को लेकर अभी तक नहीं बनी बात, LJP के अंदर भी शुरू हुई खींचतान

98

बिहार चुनाव की दु’दुं’भी बज गई है. एक अक्टूबर को पहले चरण की अधिसूचना भी चुनाव आयोग की ओर से जारी करने की तैयारी है. दूसरी तरफ अगर नज़र डाली जाये तो अब पार्टियों की अं’द’रू’नी क’ल’ह भी सामने खुलकर आने लगी है. चुनाव से पहले दल बदल का भी दौर शूरु हो चुका है. इन सबके बीच एनडीए और एलजेपी के बीच काफी ज्यादा त’ना’त’नी का माहौल है. कयास ये लगाये जा रहे है कि चिराग पासवान एनडीए का साथ छोड़ सकते है. हालांकि सूत्रो की माने तो उनकी पार्टी के कुछ लोग एनडीए का हिस्सा बनकर इस चुनावी मैदान में उतरना चाहते है. जिसने चिराग को बहुत बड़ी परेशानी में डाल दिया है.

लोक जनशक्ति पार्टी कितने सीटों पर चुनाव लड़ेगी? अभी इसको लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पायी है. एक तरफ पार्टी के आला नेता कह रहे हैं कि पार्टी की ओर से 143 सीटों पर लड़ने की तैयारी की जा रही है. जनकारी के अनुसार बीते दो दिनों से दिल्ली में इसको लेकर बैठकें हो रही है. देर रात भी नेता मिल रहे हैं. बिहार से भी विधायकों व सांसदों का दल वहां पहुंचा हुआ है. लोक जनशक्ति पार्टी के नेता का कहना है कि सीट को लकेर जो भी फैसला होगा हो चिराग पासवान ही लेंगे.

बता दें की पिछले कई दिने से एनडीए में खीं’च’ता’न का दौर जारी है और अभी भी कोई विकल्प निकलकर सामने नही आया है. चिराग पासवान ने एनडीए के सामने एक फ़ॉर्मूला भी रखा है. लेकिन उस पर अभी तक कोई बात नही हो सकी है. चिराग के सामने सबसे बड़ी समस्या ये आकर खड़ी हो सकती है की अगर वो एनडीए से अलग हो कर चुनाव लड़ते है तो क्या उनकी ही पार्टी के सभी नेता इस फैसले को स्वीकार करेंगे. अब या तो वक्त बातयेगा.?