SBI ने अपने अकाउंट होल्डर्स को जारी की एडवाइजरी, कहा आ गया है बैंकिंग वायरस बच कर रहें नहीं तो उठानी पड़ेगी ये मुश्किल

6318

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की तरफ से अपने कस्टमर को लेकर एक मेसेज जारी किया गया हैं. जिसमे ये बताया है कि एक वायरस ने अ’टैक किया है. इस वायरस ने अकाउंट होल्डर्स को अपना निशाना बनाया हैं. इसे पहले भी एसबीआई ने अपने अकाउंट होल्डर्स को चेताया था कि अपना जो भी ऑनलाइन बैंकिंग या खाते में लेने देने का काम करते उसको ध्यान से करें.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने कस्टमर्स के लिए एक एडवाइजरी जारी की है. खत’रनाक बैंकिग वायरस से अ’लर्ट किया गया है. जिस वायरस का जिक्र एसबीआई कर रही है वो वायरस है Cerberus. इस खतर’नाक मैल’वेयर की मदद से अकाउंट होल्डर्स को निशा’ना बनाया जा रहा है. यह मैल’वेयर फेक मेसेज भेज कर बड़े बड़े ऑफर्स का लालच देता हैं और लोग उस मेसेज पर क्लिक करने को बोलता है या फिर ऐप डाउनलोड करने को कहता हैं, जैसे कोई कस्टमर उनके चंगुल में फ’सता है वो उसको अपना शिका’र बना लेते हैं और उसका अकाउंट साफ़ कर देते हैं.

इस मै’लवे’यर की जानकारी एसबीआई ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर के दी है. उसने लिखा है कि ‘ऐसे फेक एसएमएस से बचकर रहें जो बड़े ऑफर्स का लालच या मौजूदा महा’मारी से जुड़ी जानकारी देते हैं और अनजान लिंक्स पर जाने या फिर अनजान सोर्स से कोई ऐप्स डाउनलोड करने को कहते हैं. यह आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश है.’  एसबीआई ने एक इमेज भी शेयर की है. जिसमे ‘Cerberus Alert’ कैप्शन दिया गया है. यह हाल ही में रिलीज हुई वेब सीरीज पाताल लोक से इंस्पायर लग रहा है.

एसबीआई ने क्रिएटिव तरीके से स्वर्ग लोक, धरती लोक,और पाताल लोक को तीन हिस्सों में बंटा है. इसमें पाताल लोक के यूजर्स को Cerberus ट्रोजन मै’लवेयर को ऑनलाइन बैंकिंग करने वाले इन्फेक्टेड यूजर्स के लिए पाताल लोक बताया गया है. इसमें बताया गया है कि स्वर्ग लोक के ऐसे यूजर्स हैं, जिनपर हमेशा फ्रॉड का ख’तरा बना रहता है. धरती लोक के यूजर उन्हें माना गया है, जिन्हें इस मै’लवेयर और खत’रे का पता है और इसके बावजूद वे अनजान लिंक्स पर क्लिक करते हैं. वहीं, पाताल लोक के यूजर्स इन्फेक्टेड हो चुके हैं. ऐसा एक ट्वीट कर के एसबीआई ने लोगों को जागरूक किया हैं.

आपको बता दें कि कोरोना वायरस में लॉक डाउन की वजह से फ्रॉड करने वाले लोग काफी ज्यादा मात्रा में बढ़ गए हैं. इसलिए एसबीआई ने अपने अकाउंट होल्डर्स को अगाह किया हैं कि वो इस तरह के फेक मेसेज से बचें और ऐसे किसी भी लिंक पर या मेसेज पर कोई रिप्लाई न करें.