चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस के इस बड़े नेता के बेटे ने थामा लिया बीजेपी का हाथ

836

दिल्ली चुनाव की तारीक नजदीक आते ही बीजेपी और आप के बीच जहां घमासान मचा हुआ हैं इसी के बीच चुनाव से पहले कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा हैं जिसके बाद दिल्ली के चुनाव में कांग्रेस अपनी स्थिति को किस कदर सुधारने की कोशिश करती हैं यह तो बाद में ही पता चलेगा लेकिन इसके चुनाव से पहले कांग्रेस को मिले झटके को कांग्रेस के लिए काफी ख़राब समझा जा रहा हैं. तो वहीं बीजेपी के लिए इसका फायदा हो सकता हैं.

बता दें कांग्रेस के नेता और सोनिया गांधी के करीबी माने जाने वाले जनार्दन द्विवेदी के बेटे समीर द्विवेदी ने बीजेपी का दामन थाम लिया हैं. जिसके बाद उनके पिता जनार्दन द्विवेदी से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुझे इसकी जानकारी नहीं हैं और अगर समीर ने बीजेपी का दामन थामा हैं, तो यह उनका अपना बेटे का फैसला हैं.

जनार्दन द्विवेदी ने 30 मार्च 2018 को कांग्रेस के संगठन महासविव पद से इस्तीफा दे दिया था और ख़ास बात ये थी कि उस लैटर पर जनार्दन द्विवेदी के ही हस्ताक्षर थे. जिसके बाद कयास लगाये जा रहे थे की वे राजनीति को छोड़ देंगे. लेकिन कांग्रेस ने दिल्ली में होने वाले चुनाव को देखते हुए एक बार फिर से प्रचार समिति के लिए महासचिव के तौर पर जनार्दन द्विवेदी को चुना हैं.

वहीं दिल्ली की राजनीति में लगातार आ रहे दिलचस्प मोड़ के बाद दिल्ली में किसकी सरकार होगी ये दिल्ली के चुनाव एक नतीजो पर ही निर्भर करता हैं. लेकिन चुनाव से पहले कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी का हाथ थामना कांग्रेस के लिए चिंता का विषय बन गया हैं. दिल्ली की गद्दी पर काफी सालों से कांग्रेस ने राज किया हैं लेकिन केजरीवाल के आने के बाद से दिल्ली की गद्दी पर कांग्रेस के लिए फिर से अपनी जगह बनाना मुश्किल हो गया हैं. वहीं दिल्ली की सत्ता को जीतने के लिए सभी विपक्षी पार्टियों में घमासान शुरू हो गया हैं.