सैफ अली खान ने तानाजी के इतिहास पर उठाये सवाल, कहा ‘फिल्म के बारे में कही ये बातें’

4583

बॉक्स ऑफिस पर तानाजी : द अनसंग वारियर जबरदस्त धूम मचा रही है. लेकिन इस फिल्म ने वामपंथी और लिबरल गैंग के खेमे में खलबली मचा दी है. भारतीय इतिहास में गम हो चुके एक पन्ने से अवगत कराती इस फिल्म ने उनलोगों की कमजोर नस पर चोट की है जिनके लिए भारत का इतिहास मुगलों के आने के बाद से ही शुरू होता है. इस गैंग के अनुसार मुगलों ने भारत को अमीर बनाया, इस गैंग के अनुसार मुग़ल बहुत सहिष्णु थे, इस गैंग के अनुसार मुगलों ने हिन्दुओं पर कोई अत्याचार नहीं किये. ऐसे में तानाजी जैसी फिल्म इन्हें इस्लामोफोबिक और हिंदुत्व के एजेंडे को बढ़ावा देने वाली लगती है.

तानाजी में सैफ अली खान ने भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. फिल्म में सैफ के अभिनय की तारीफ़ भी हुई. लेकिन अब सैफ सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर हैं. सैफ अली खान ने एक इंटरव्यू में तानाजी के इतिहास पर सवाल उठाया है. फिल्म क्रिटिक अनुपमा चोपड़ा को दिए एक इंटरव्यू में सैफ अली खान कहते हैं कि तानाजी में जो दिखाया गया वो इतिहास नहीं है. इतिहास क्या है ये हम सब जानते हैं. यानी कि सीधे तौर पर सैफ तानाजी के इतिहास को नकार रहे हैं.

इस इंटरव्यू में अनुपमा सवाल करती हैं कि तानाजी में जो राजनीति दिखाई गई है उसपर सवाल उठा रहे हैं. हालाँकि वो ये नहीं बताती कि ये सवाल कौन उठा रहा है? इस सवाल के जवाब में सैफ कहते हैं, ‘ये सही बात है कि इसकी पॉलिटिक्स का तथ्यों से कोई मेल नहीं है. इसे लेकर मैं केवल एक अभिनेता के तौर पर ही सहमत नहीं हूं बल्कि एक भारतीय के तौर पर भी नहीं हूं. मैंने ऐसी राजनीति पर पहले भी सवाल खड़े किए हैं. शायद मैं अगली बार से ऐसी कहानियों को लेकर सतर्क रहूं. ये रोल मुझे आकर्षक लगा इसलिए कर लिया.’

मतलब की सैफ कहना चाहते हैं कि वो तानाजी के इतिहास (जो फिल्म में दिखाई गई है) से सहमत नहीं है. लेकिन चूँकि उनका कैरियर डूब रहा था इसलिए उसे सहारा देने के लिए उन्होंने ये फ़िल्म कर ली. अब जबकि फिल्म सफल हो गई. सैफ के डूबते कैरियर को सहारा मिल गया तो सैफ अब फिल्म के इतिहास और फिल्म पर सवाल खड़े कर रहे हैं. वाकई मौकापरस्ती के मामले में तो सैफ ने नेताओं को भी पीछे छोड़ दिया.

इस इंटरव्यू में सैफ से देश के वर्तमान राजनीतिक माहौल पर भी सवाल पूछे जाते हैं और सैफ इशारों इशारों में ये कह देते हैं कि देश में डर का माहौल है. सैफ कहते हैं कि जब बंटवारे के वक़्त उनके परिवार ने भारत में रहने का फैसला किया था तो उन्हें लगा था कि ये एक सेक्युलर मुल्क है लेकिन जिस दिशा में चीजें आगे बढ़ रही है. उससे लगता है कि शायद देश आगे सेक्युलर ना रहे.

सैफ ने यहाँ चालाकी दिखाई. जब फिल्म हिट हो गई. सैफ के खाते में एक सुपरहिट फिल्म जुड़ गई. सैफ के कैरियर को सहारा मिल गया तब उन्होंने अपने चेहरे से नकाब हटाया है और अपना असली चेहरा दिखाया है.

यहाँ देख सकते हैं आप सैफ का पूरा इंटरव्यू