देश के बिगड़ते हालातों पर बोले सैफ अली खान, कहा भारतीय होने का अर्थ क्या है? हिन्दू होना या सिर्फ भारत में पैदा होना काफी है ?

194

देशभर में कोरोना वायरस की वजह से हाहाकार मचा हुआ है. जिसकी वजह से केंद्र सरकार ने लॉक डाउन को दूसरे चरण में 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया है. ऐसे में जहाँ सभी लोग मिल कर एक महामारी के खिअल्फ़ जंग लड़ रहे है. वही बॉलीवुड के कुछ सितारों ने भी अपना योगदान देते हुए जरूरत मंदों के लिए अपनी तरफ से सहायता की है. इसी के बीच बॉलीवुड में नबाब के नाम से जाने जाते सैफ अली खान ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

लॉक डाउन के इन दिनों में किस तरह से वो अपने घरो में समय व्यतीत कर रहे है. बेटे तैमूर और पत्नी करीना कपूर खान के बारे में भी बात करते हुए उन्होंने कोरोना की वजह से बने हालातों पर कहा कि देखा जाए तो हम सभी एकजुट होकर एक तरह का युद्ध लड़ रहे हैं. हम सभी घर पर रहें ताकि स्वास्थकर्मी अपना काम अच्छी तरह से कर सकें. इसके अलावा राष्ट्रभक्ति और हालातों पर कहा कि मुझे लगता है कि मैं इस सब पर काफी कुछ बोल चुका हूं.

राजनीति वो चीज नहीं है जिसके बारे में मैं बहुत ज्यादा चिंता करता हूं. मैं एक कलाकार हूं और लोगों को जोड़ कर रखने में यकीन करता हूं. जिन लोगों ने हमें आजादी दिलाई वो अब इस दुनिया से जा चुके हैं और जो नए लोग हैं वो नए तरह के विचार लेकर आगे आ रहे हैं. आज एक तरह की नई मानसिकता आ गई है जिसमें लोग खुद को राष्ट्रप्रेमी साबित करने की होड़ में लगे हैं. इसका अर्थ क्या है. कई मायनों में ये अच्छी चीज है लेकिन भारतीय होने का अर्थ क्या है? क्या इसका अर्थ हिंदू होना है या सिर्फ भारत में पैदा होना काफी है? गौरतलब है कोरोना का कहर जिस तरीके से बढ़ता जा रहा है उस पर सभी अलग अलग तरीके से अपनी प्रतिक्रिया दे रहे है.