सद्गुरु ने इंटरव्यू में राहुल कँवल की उड़ाई धज्जियाँ, राहुल कँवल की हो गई बोलती बंद

2137

CAA के खिलाफ वामपंथी मीडिया ने जमकर प्रोपगैंडा फैलाया. जगह जगह जो लोग धरने पर बैठे हुए आपको दिख रहे हैं, चाहे दिल्ली का शाहीन बाग़ हो या लखनऊ का घंटाघर ये सब कुछ वामपंथी मीडिया का किया धरा है. वामपंथी मीडिया के प्रोपगैंडा को ध्वस्त करने के लिए केंद्र सरकार ने जागरूकता फैलाने का फैसला किया और सरकार के आग्रह पर सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने CAA के खिलाफ फैले भ्रम को दूर करने की कोशिश की. उसके बाद वामपंथी सद्गुरु के पीछे पड़ गए.

अब सद्गुरु ने सीधे सीधे वामपंथी मीडिया को ही लताड़ लगाई है. उनके हत्थे चढ़ गए इंडिया टुडे के एंकर राहुल कँवल. वही राहुल कँवल जो पिछले दिनों JNU हिंसा पर स्टिंग के बाद खुद एस्पोज हो गए थे. राहुल कँवल को सद्गुरु ने एक इंटरव्यू दिया और उसमे उन्होंने राहुल समेत वामपंथी मीडिया को जमकर लताड़ लगाई और सबक सिखाया.

इस इंटरव्यू में सद्गुरु ने बताया कि तीन देशों (पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान) से धार्मिक आधार पर प्रताड़ित हो कर आये लोगों को नागरिकता देना CAA का मुख्य उद्धेश्य है ताकि वो निडर हो कर अपना जीवन बिता सके. इस पर राहुल ने किन्तु परन्तु करना शुरू कर दिया और इस बात पर जोर देते रहे कि मुस्लिमों को क्यों नहीं बुला रहा? उन्हें क्यों इससे अलग रखा गया है?

सद्गुरु ने राहुल कँवल से पूछा कि क्या आपने सीएए पढ़ा है? इस पर कँवल ने हाँ में जवाब दिया तो सद्गुरु ने सवाल पूछा कि क्या ये किसी एक भी भारतीय नागरिक के ख़िलाफ़ है? सद्गुरु का सवाल सुनते ही राहुल कँवल टाल मटोल करने लगे और इधर उधर की बातें करनी शुरू कर दी. लेकिन सीधा सीधा जवाब नहीं दिया. तब सद्गुरु ने कहा कि यही भरम है जो CAA के खिलाफ फैलाया जा रहा है.

उन्होंने एक उदाहरण देते हुए कहा, धरने को कवर करने पहुंची मीडिया रिपोर्टर महिलाओं और बच्चों से पूछती है कि आप यहाँ क्यों बैठी हैं? तो महिलाएँ कहती हैं कि भारत सरकार उनकी नागरिकता ले रही है, इसलिए. इस पर सद्गुरु मीडिया पर तंज कसते हुए कहते हैं कि उस रिपोर्टर ने ये नहीं कहा कि ये गलत है. झूठ फैलाया जा रहा है. सरकार नागरिकता नहीं ले रही. बल्कि रिपोर्टर उस माहौल को एन्जॉय करते हैं. सद्गुरु राहुल से सवाल करते हैं कि तुमलोग क्यों ऐसा कर रहे हो? ये देश का सवाल है. लेकिन तुम लोग कंट्रोवर्सी चाहते हो और कंट्रोवर्सी पैदा भी करते हो.