भारत के स’म’र्थन में आया पुराना दोस्त रूस, पा’किस्ता’न की इस ह’रक’त पर लगायी जोरदार फ’टका’र

84

कश्मीर मा’मले में पा’किस्ता’न लगातार कोई न कोई ह’रकत करता ही रहता है. जिसकी वजह से उसे हर बार मुंह की खानी पड़ती है. लेकिन फिर भी वो अपनी ह’रक’तों से बा’ज नहीं आता है और इसी वजह से अब एक बार फिर से पाकि’स्तान को बड़ा झट’का लगा है.

जानकारी के लिए बता दें कश्मीर माम’ले में पु’राना दोस्त रूस भी अब भारत के साथ आ गया है और उसने पाकि’स्तान को जोरदार फट’कार लगायी है. बता दें कि रूस ने भारत की इस बात का सम’र्थन किया कि पाकि’स्तान को शंघाई स’हयोग संग’ठन में च’र्चा के दौरान कश्मीर जैसे द्वि’प’क्षीय मु’द्दों को नहीं लाना चाहिए. साथ ही रूस ने ये भी कहा कि ऐसा करना स’मूह के सिद्धां’तों के खिला’फ है.

दरअसल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सं’गठन के डिजिटल शिखर सम्मे’लन में अपने संबो’धन में मंगलवार को स’मूह के आ’धार’भू’त सि’द्धां’तों का उल्लं’घन कर एससीओ में द्वि’प’क्षीय मु’द्दों को अ’ना’वश्य’क रूप से बार-बार लाने के प्रया’स करने वालों पर हम’ला बोला था. इसके अलावा रूसी मि’शन के उपप्र’मुख रोमन बाबुश्किन ने गुरुवार को संवाद’दाता सम्मे’लन में कहा कि  ‘यह एससीओ चार्टर का हिस्सा है कि द्विप’क्षीय मु’द्दों को एजें’डे में न लाया जाए और हमने यह सभी सदस्य देशों को स्प’ष्ट कर दिया है कि बहुप’क्षीय सहयोग की प्र’ग’ति की खा’तिर इससे बचा जाना चाहिए’.

साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि ‘जहाँ तक भारत-पाक वि’वाद का संबं’ध है. हमारी नजर में अभी तक कोई परि’वर्तन नहीं हुआ है. हम उम्मी’द करते है कि आगे ऐसी घट’नाएं न हो’. जाहिर है पाकि’स्तान बार बार कश्मीर मु’द्दें को अंतर्रा’ष्ट्रीय स्त’र पर उठाता रहा है और इसी वजह से हर बार उसे मु’हं की खा’नी पड़ती है.