टीम इंडिया में आ गयी है दरार एक गुट रोहित के पक्ष में दूसरा कोहली के पक्ष में

1209

विश्वकप के सेमीफाइनल में मिली करारी हार के बाद बाहर होने वाली टीम इंडिया में कुछ भी सही नहीं चल रहा है।इंडियन क्रिकेट टीम में खिलाड़ियों के बीच अनबन की खबरें लगातार सामने आ रही हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, विराट कोहली और रोहित शर्मा के बीच वर्चस्व की लड़ाई के चलते टीम इंडिया दो गुट में बँट चुकी है. गल्‍फ न्‍यूज़ ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि टीम इंडिया क्रिकेट वर्ल्ड कप में दो गुटों में बंटकर खेली। पहला ग्रुप विराट कोहली का था वहीं दूसरा रोहित शर्मा का। रोहित शर्मा के गुट के खिलाड़ियों को विराट कोहली और रवि शास्त्री के फैसले नागवार गुजरे थे। कई मौकों पर रोहित ने कोहली के फैसलों पर नाराजगी जाहिर की। इससे दोनों के बीच अनबन बढ़ती चली गई।

गल्‍फ न्‍यूज की रिपोर्ट के अनुसार, सेमीफाइनल मैच में मोहम्‍मद शमी को बाहर बैठाए जाने के फैसले से रोहित शर्मा और उनके ग्रुप के सभी साथी नाराज थे, क्‍योंकि शमी ने वर्ल्‍ड कप में जबरदस्‍त गेंदबाजी की थी और 4 मैचों में 14 विकेट लिए थे। वहीं रवींद्र जडेजा को वर्ल्‍ड कप के मैचों के दौरान न खिलाए जाने पर भी मतभेद थे। जडेजा ने बाद में सेमीफाइनल में मौका मिलने पर जबरदस्‍त पारी खेली थी।अगर सेमीफाइनल मैच पर नजर डाली जाए तो इस तरह के दावे में सच्‍चाई नजर आती है। न्‍यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में जब रवींद्र जडेजा चौके-छक्‍के लगा रहे थे तब रोहित शर्मा ड्रेसिंग रूम से उनको चीयर कर रहे थे.

सेमीफाइनल में हार के बाद रोहित शर्मा के गुट ने विराट कोहली को कप्तानी से हटाने की भी बात कही, जिन्होंने अबतक कोई आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीता है। वेस्टइंडीज दौरे के लिए कहा जा रहा था कि विराट कोहली को आराम दिया जा सकता है और रोहित शर्मा सीमित ओवरों की कप्तानी करेंगे। पहले भी रोहित विराट की गैरमौजूदगी में टीम की कमान संभाल चुके हैं, लेकिन तनातनी के दावों के बीच विराट कोहली ने आराम नहीं लिया है। कहा जा रहा है कि अगर रोहित के नेतृत्व में विंडीज में टीम इंडिया वनडे और टी20 सीरीज जीतने में कामयाब होती, तो उनके स्थायी कप्तान बनाने के दावे को और मजबूती मिलती।

अब देखने वाली बात ये होगी कि टीम इंडिया में छिड़ी हुई ये वर्चस्व की जंग कहाँ जाकर थमेगी। लेकिन सभी क्रिकेट के चाहने वाले यही चाहेंगे कि जल्द से जल्द ये गुटबाज़ी ख़त्म हो ताकि भारतीय क्रिकेट का भविष्य सुनहरा हो सके।