इधर प्रियंका गाँधी राजनीति में शामिल हुई, उधर रॉबर्ट वाड्रा को लगने लगा गिरफ्तारी से डर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी के पार्टी में अधिकारिक रूप से शामिल होने का मुद्दा ठंडा भी नही पड़ा था कि अब प्रियंका गाँधी के पति राबर्ट वाड्रा को गिरफ्तारी का डर सताने लगा है। गिरफ्तारी के डर का आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि वाड्रा ने केस की सुनवाई से पहले ही अग्रिम जमानत याचिका दायर कर दी है।


दरअसल पूरा मामला मनी लाउंड्रिंग से जुड़ा हुआ है। मामला लंदन के 12 ब्रायंस्टन स्क्वायर पर स्थित एक संपत्ति की खरीद में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों से जुड़ा हुआ है. जिसे 19 लाख पाउंड में खरीदा गया था और इसके मालिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई वाड्रा हैं. हालाँकि इसे बेहद नाटकीय रूप से अंजाम देकर झुपाने की कोशिश की गयी। इसका खुलासा ईडी ने किया है । बता दें कि भगोड़े हथियार व्यापारी संजय भंडारी के खिलाफ आयकर विभाग कालाधन अधिनियम एवं कर कानून के तहत जांच कर रहा है. इसी दौरान मनोज अरोड़ा की भूमिका सामने आयी और इसी आधार पर धन शोधन का मामला दर्ज किया गया . आरोप लगाया गया कि लंदन स्थित संपत्ति को 19 लाख पाउंड में भंडारी ने खरीदा था और इस सम्पत्ति में लगभग 65,900 पाउंड खर्च किया गया था .2010 में इसे 19 लाख पाउंड में ही वाड्रा को बेच दिया गया. अब यहाँ सोचने वाली बात यह है कि पहले कीमत 19 लाख पाउंड थी, फिर उसमें 65,900 खर्च भी किया गया. इसके बाद भी इसे 19 लाख पाउंड में बेच दिया गया. कैसे भैया कैसे? ये तो ऐसे ही हुआ ना कि खाली प्लेट और भरा प्लेट एक ही दाम का!


खैर आगे चलते हैं प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 19 जनवरी को अदालत को बताया था कि रोबर्ट वाड्रा का करीबी मनोज अरोड़ा जांच में सहयोग कर रहे हैं. वहीँ पहले अरोड़ा ने आरोप लगाया था कि ‘राजनीतिक प्रतिशोध’ के तहत उन्हें इस मुकदमे में फंसाया है. जबकि ईडी ने इसका करारा जवाब देते हुए कहा था कि “क्या किसी भी अधिकारी को किसी भी राजनीतिक रूप से बड़े व्यक्ति की जांच नहीं करनी चाहिए क्योंकि इसे राजनीतिक प्रतिशोध कहा जाएगा?”
इन सबसे अलग यहाँ सबसे हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि जब रोबर्ट वाड्रा ने कोई गलत काम नही किया तो उन्हें गिरफ्तारी से इतना डर क्यों हैं? आखिर सुनवाई से पहले ही रोबर्ट वाड्रा को गिरफ्तारी का डर क्यों सता रहा है? राबर्ट वाड्रा द्वारा दायर की गयी अग्रिम जमानत याचिका से पता चलता है कि शायद दाल में कुछ काला नही है बल्कि पूरी दाल ही काली है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा पर भारत में कई ऐसे केस दर्ज हैं. जिसमे उनपर कौड़ियों के दाम पर जमीन हडपने का आरोप है. ऐसा कहा जाता है कांग्रेस सरकार ने रॉबर्ट वाड्रा की मदद की जिससे आज वे किसानों की कई हेकड जमीन पर कब्जा करके बैठे हुए हैं. हालाँकि कोर्ट में रॉबर्ट वाड्रा द्वारा दिए गये अग्रिम जमानत याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई करते हुए उन्हें बेल दे दी हैं. हालाँकि ये बेल 16 जनवरी तक ही मिली हुई है.

Related Articles

20 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here