अपने पिता की इस आखिरी इच्छा को पूरा नहीं कर पाए रणबीर कपूर, अधूरा रह गया ये सपना

बुधवार को बॉलीवुड के मशहूर एक्टर इरफ़ान खान ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था. वह पिछले काफी समय से कैंसर की बीमारी से लड़ रहे थे और अपना इलाज करवाने लंदन भी गये थे लेकिन बुधवार को उन्होंने हार मानकर आख़िरकार इस दुनिया को अलविदा कह दिया. उनके निधन की खबर से बॉलीवुड उभरा नही था कि गुरूवार को सुबह लोगों को बड़ा झटका देने वाली खबर आ गयी.

जानकारी के लिए बता दें गुरुवार को सुबह अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर ऋषि कपूर के निधन की खबर देकर हर किसी को चौंका दिया. उनके निधन की खबर मिलने के बाद हर तरफ शोक की लहर दौड़ पड़ी. दरअसल बुधवार को तबियत खराब होने के चलते उन्हें मुंबई के रिलायंस अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. जिसके बाद गुरूवार की सुबह उन्होंने अंतिम साँस ली. ऋषि कपूर भी पिछले काफी समय से कैंसर की बीमारी से लड़ रहे थे.

सितंबर 2019 में लंदन से अपना इलाज वापस करवाकर भारत लौटे ऋषि कपूर को देखकर हर किसी को यही लगता था कि वो अब ठीक हैं लेकिन ऐसा किसने सोचा था कि वो इतनी जल्दी ही इस दुनिया को अलविदा कह देंगे. ऋषि कपूर ने अपनी जिंदगी में बहुत तरक्की देखी और खुद भी काफी मेहनत करके फ़िल्मी दुनिया में इतना नाम कमाया लेकिन इलाज करवाकर जब वो वापस लौटे तो लगा था कि उनका अधूरा सपना अब पूरा हो जायेगा लेकिन नियती को कुछ और ही मंजूर था और उनका आखिरी सपना भी लॉकडाउन के चलते अधूरा रह गया.

गौरतलब है कि विदेश से लौटने के बाद ऋषि कपूर चाहते थे कि उनके बेटे रणबीर कपूर की शादी हो जाए कई बार उनकी शादी की तारीखों को लेकर खबर भी आई लेकिन उनकी शादी नही हो पायी. ‘ब्रह्मास्त्र’ फिल्म की शूटिंग के चलते रणबीर की शादी की डेट आगे बढ़ती गयी और वो अपने पिता के सपने को पूरा ही नहीं कर पाए. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो ऋषि कपूर ने अपनी होने वाली बहू आलिया भट्ट से कई बार मुलाकात भी की थी साथ में डिनर भी किया. बस बेटे की शादी का सपना अधूरा ही रह गया. इतना ही नहीं विदेश में जब ऋषि कपूर का इलाज चल रहा था तो आलिया उन्हें देखने वहां भी पहुंची थी. अपने पिता के इस सपने को पूरा न करने के चलते आज रणबीर कपूर को भी पछतावा हो रहा होगा.