राजकीय सम्मान के साथ श’हीद रतनलाल को दी गयी अं’तिम वि’दाई, पुलिस कमिशनर ने दिया श’हीद को कं’धा

1396

देश की राजधानी कही जाने वाली दिल्ली अब एक बार फिर से ज’ल उठी हैं. तीन दिनों से दिल्ली का हाल बेहाल हैं. जिसकी वजह से आम जन जीवन को प’रेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं. वहीं दूसरी तरफ दिल्ली में CAA के खि’लाफ वि’रोध प्र’दर्शन रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है. CAA के खि’लाफ चल रहे 70 दिनों से ज्यादा वि’रोध प्र’दर्शन की वजह से अब पूरे देश का माहौल ख़राब हो गया हैं. जिसके कारण दिल्लीवासियों का कहना हैं. कि अब उन्हें दिल्ली में रहने में ड’र लगने लगा है.

वही दिल्ली में लगातार हो रहे CAA के खि’लाफ वि’रोध प्र’दर्शन में ड्यूटी पर तैनात हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल की मौ’त हो गयी. बता दें मौजपुर में हजारों लोग अचानक से सड़क पर आ गए और तो’ड़फो’ड़ करने लगे. जिसे रोकने के लिए रतनलाल ने कोशिश की जिसमे वो घा’यल हो गए. और अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौ’त हो गयी. दिल्ली में हा’लात इतने बे’काबू हो गए हैं जिस पर जल्द से जल्द नियंत्रण पाना जरुरी हो गया है.

बता दें हेड कांस्टेबल रतनलाल की मौ’त पर दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक  ने कहा कि यह हमारे लिए बड़ा नुकसान है. दिल्ली पुलिस को रतनलाल पर गर्व है. हम इस दु’ख की घड़ी में रतनलाल के परिवार के साथ हैं. पुलिस कमिशनर ने शहीद रतनलाल को कंधा देते हुए अंतिम विदाई दी. हेड कांस्टेबल रतन लाल को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने श्र’द्धांजलि दी. दिल्ली दं’गे मे मा’रे गए पुलिस के जवान रतनलाल अपने पीछे पत्नी, दो बेटियां और एक बेटे को छोड़ गए है और उनके तीनो ही बच्चे अभी छोटे हैं. ऐसे में घर के मुखिया का चले जाना परिवार के लिए बहुत ही बड़ी सकंट की स्थिति हो गयी हैं. बता दें रतनलाल ही अपने परिवार को चलाने वाले इकलौते थे और उनके घर की आर्थिक स्थिति भी अच्छी नहीं थी.

अब ऐसी स्थिति में उनके परिवार का हाल बेहाल हो गया है. वहीं दूसरी तरफ दिल्ली दं’गे में म’रने वालों की संख्या भी बढ़ गयी हैं और घा’यलों की संख्या भी. अब इस स्थिति पर सरकार कब तक काबू पायेगी ये तो बाद में ही पता चलेगा लेकिन दिल्ली में प्र’दर्शन’कारियों ने इसे CAA के वि’रोध प्र’दर्शन की जगह कुछ और ही बना दिया. जिसके आधार पर अनुमान लगाया जा रहा हैं. क्या यह कोई सा’जिश तो नहीं हैं दिल्ली को ज’लाने के लिए.