अनुराग कश्यप हों या राना अयूब नहीं चाहते कश्मीर मुद्दे का हल

707

आज जब मैं twitter खोलती हूँ तो कुछ ऐसे तत्व देखने को मिलते हैं, की मैं सोच में पड़ जाती हु की इस देश में वामपंथ विचार धारा किस ओर जा रही है. इन महान ट्विटर क्रांतिकारियों के ट्वीट पढ़ कर समझ में आ जाता है की हमारे देश में वामपंथ विचार धारा आखिर वेंतीलाटर पर क्यों है.

जिस तरह हमारे यहाँ के नामी चेहरे अपना वक्तव्य रखते हैं, ऐसा लगता ही नहीं है कि कोई भारतीय बात कर रहा हो, सरकार ने धारा 370 हो हटाने का निर्णय लिया तो twitter पर तूफ़ान आ गया. ज़यादातर लोग कश्मीर की असल आजादी का जश्न माना रहे थे, लेकिन कुछ लोगों के तो मुह ही लटक गए थे.

राना अयूब तो याद ही होंगी आप लोगों को, ma’am ने 6 अगस्त की शाम एक ट्वीट किया. “ आपको लगता है ये कश्मीर पर रुक जाएँगे? अगला नंबर असम का है, फिर बंगाल और फिर इस देश का संविधान और आखिर में लोकतंत्र जिसको आप सब ने सनजो के रखा है. जब मई आपको इस बात पर खुश होते हुए देखती हु तो समझ नहीं आता की आपकी अज्ञानता पर हसूं या फिर सहापराध पर चिंता जताऊ.”उनके ट्वीट से एक बात तो साफ़ है, की रना अयूब कश्मीर के मसले को हल होते हुए नहीं देखना चाहती. लेकिन क्या उन्हें इतनी सी बात नहीं पता की जनता के मत से आई इस सरकार ने चुनाव के पहले ही अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया था जिसमे साफ़ लिखा था की भाजपा धारा 370 और 35A का निवारण करंगे.

इन्ही वादों को पूरा करने तो जनता ने उनको सत्ता सौपी है.वैसे रना ने कई और ट्वीट किये लेकिन उनका एक और ट्वीट था जो काफी चिंताजनक था. टाइम्स of india ने अपना एक आर्टिकल ट्वीट किया था जिसमे लिखा था “Triple Talaq, Article 370. अगला Uniform Civil Code ?” इस ट्वीट को retweet करते हुए राना ने लिखा  “हिन्दू राष्ट्र मातहती मांग रखता है” ह्म्म्म अब समझ आया इनको क्या डर सता रहा हैं.

खुद को न तो leftist न ही rightist बल्कि दाईगोनल कहने वाले अनुराग कश्यप को तो सभी लोग जानते हैं, काफी जाने मने निर्देशक हैं उन्होंने भी इस मुद्दे पर अपने विचार ज़ाहिर किये “ आपको पता है डरावनी बात क्या है? एक इंसान ही पूरा मालूम है की 1,200,000,000 लाख लोगों के लिए क्या सही है, और उसी के हाथों में सारी पॉवर है”.

पूरा देश जश्न माना रहा था, लेकिन इन लोगों का दिल पसीज रहा था. अब ऐसे विचार सोशल मीडिया पर व्यक्त करने पर जनता फूल तो बरसाएगी नहीं, जम कर ट्रोल किया लोगों ने. निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने भी इन्हें ट्रोल कर दिया उन्होंने री- ट्वीट करते हुए कटाक्ष किया की कश्मीर का नाम ऋषि कश्यप से पड़ा है.

काफी खरी खोटी सुन उन्होंने बाद में अपने सुर बदल लिए और ये पोस्ट डाला“Article 370 या 35A, के बारे में में ज़्यादा नहीं कह सकता । इसका implication, history, या facts मैं अभी भी समझा नहीं हूँ । कभी लगता है जाना चाहिए था , कभी लगता है क्यों गया ।ना मैं कश्मीरी मुसलमान हूँ ना कश्मीरी पंडित ।मेरा कश्मीरी दोस्त कहता है कश्मीर की कहानी Roshomon की तरह है”खैर बीते सालों में एक चीज़ तो जरूर हुई है, बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के असल चेहरे ज़रूर सामने आ गए हैं. अब बॉलीवुड दो धडों में बट गया है एक जो देश के हित में सोचता है तो दूसरा जो रना अयूब जैसे लोगों के कदम से कदम मिला कर चलता है.