लॉकडाउन के बीच रामायण ने बनाया इतिहास, TRP के तोड़े रिकार्ड्स

3166

ओल्ड इज गोल्ड कहावत के बारे में तो आपने सुना ही होगा. इसी को चरितार्थ कर रहा है रामानंद सागर का टीवी सीरियल रामायण. जिसका इन दिनों दूरदर्शन पर पुनः प्रसारण हो रहा है. पहली बार ये सीरियल 1987 में दूरदर्शन पर ही प्रसारित हुआ था. उन दिनों न तो इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध थी और न ही नेटफ्लिक्स या अमेजन प्राइम जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म थे. टीवी भी हर घर में नहीं था. उस दौर में रामायण ने सफलता का जो इतिहास रचा, उस दौर में इस स्रीयल ने जो ऐतिहासिक सफलता हासिल की वो फिर कोई हासिल नहीं कर पाया.

33 साल बाद सूचना और प्रासारण मंत्रालय ने लॉकडाउन की वजह से घरों में कैद दर्शकों के मनोरंजन के लिए रामायण का री-टेलीकास्ट शुरू किया है. जब सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने इस रिसियल को दोबारा शुरू करने का निर्णय लिया तो उसे भी उम्मीद नहीं रही होगी कि हर काम मोबाइल पर करने वाली जेनरेशन इस सीरियल को हाथों हाथ लेगी. दौर बदल गया, जेनरेशन बदल गई लेकिन अगर नहीं बदली तो रामायण की लोकप्रियता. 2015 के बाद रामायण सबसे ज्यादा देखा जाने वाला हिंदी सीरियल बन गया है. प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने इसकी जानकारी ट्विटर पर. शशि शेखर ने ट्वीट कर कहा, ‘दूरदर्शन पर दुबारा प्रसारण के साथ ही रामायण ने हिंदी (जनरल एंटरटेनमेंट चैनल) शो के तहत 2015 के बाद अभी तक की सबसे अधिकतम रेटिंग हासिल की है.’ उन्होंने BARC के सौजन्य से ये जानकारी दी.

लॉकडाउन के मद्देनज़र दूरदर्शन ने दर्शकों की मांग पर 90 के दशक के लोकप्रिय सीरियलों का दोबारा प्रसारण शुरू किया है. रामायण के अलावा महाभारत, चाणक्य, शक्तिमान, अलिफ़ लैला जैसे सीरियल फिर से दिखाए जा रहे हैं और खूब देखे भी जा रहे हैं.