रामायण में कुछ सीन का’टे जाने से भड़’के दर्शक, दूरदर्शन ने दिया जवाब

2039

देश में कोरो’ना वायरस जैसी महामारी ने दस्तक दी थी. उसके बाद पीएम मोदी ने देश में लॉक डाउन करने का फैसला लिया था. लॉक डाउन होने के बाद जनता घर में बोर होने लगी तो उसने मांग की कि हम लोगों को रामानंद सागर द्वारा बानी गई रामायण को दिखाया जाए. जनता की मांग को पूरा करते हुए केंद्र सरकार ने रामायण का पुनः प्रसारण नेशनल पर शुरू कर दिया.

रामायण को लोगों ने बहुत प्रेम के साथ देखा. इन सबके बीच में रामायण ने टीआरपी में भी इतिहास कायम कर दिया हैं. लेकिन इन सबके बीच जब रामायण का 18 अप्रैल को आखिरी एपिसोड टेलिकास्ट किया गया, जिसमें भगवान राम के हाथों रावण का व’ध दिखाया गया. लेकिन दर्शकों का दावा है कि दूरदर्शन ने ‘रामायण’ के क्लाइमैक्स से छे’ड़छा’ड़ की और कई महत्वपूर्ण सीन का’ट दिए. उनका मानना है कि रावण के व’ध के दौरान बहुत से सीन्स एडिट कर दिए गए हैं.

दर्शकों ने ट्विटर पर प्रसार भारती के सीईओ से इस बारे में सवाल तक पूछ लिए और उन सीन्स का जिक्र भी किया, जिन्हें का’टा गया. साथ ही उन्होंने अपील की कि ‘रामायण’ का अनकट वर्जन टेलिकास्ट किया जाए. एक यूजर ने प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर से सवाल किया, ‘सर, अहिरावण का सीन और रावण द्वारा लक्ष्मण को दी गई दीक्षा वाला सीन क्यों का’ट दिया। बहुत दुख हुआ. इस पर प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने जवाब भी दिया.

जनता द्वारा पूछे गये सवाल पर शशि शेकर ने कहा कि  ‘कहीं कोई सीन क’ट नहीं किया गया है, जिन सीन्स की बात की गई है, वे ऑरिजनल प्रॉडक्शन का हिस्सा नहीं थे.

शशि शेखर ने अगले ट्वीट में लिखा, ‘हमारी पौराणिक कहानियों की खूबी ही यही है कि उनसे जुड़ी हुई कई कहानियां हैं. उनके अलग-अलग ऐंगल हैं. ऐसे में सभी को एक टीवी स्क्रिप्ट में दिखा पाना संभव नहीं है. लेकिन हां, भविष्य के लिए रास्ता जरूर खुला है.

शशि शेखर ने एक और ट्वीट कर के आगे बताया कि ‘रामायण’ के राइट होल्डर्स की तरफ से उन्हें सीमित अधिकार दिए गए थे. जिसकी वजह से हम लोगों ने उतना ही दिखाया है. जितना था.