मु’स्लिम पक्ष की मांग राम मंदिर भव्य है, तो म’स्जिद भी…

979

एक लंबे अरसे से अयोध्या मा’मला कोर्ट में चला आ रहा था. जिसके बाद कोर्ट ने इस मा’मले पर फैसला हिन्दुओं के पक्ष में दिया था और मु’सल’मानों के लिए 5 एकड़ जमीन देने की बात कही थी. जिसके बाद लोग राम मंदिर पर आये कोर्ट के फै’सले से खुश दिखे. वहीं कोर्ट के आदेश के अनुसार सरकार ने मु’स्लिम पक्ष को धन्नीपुर गाँव में 5 एकड़ जमीन दी हैं. जिसे लेकर धन्नीपुर गाँव के लोगों में ख़ुशी हैं और म’स्जिद का नाम अमन की म’स्जिद या शांति की म’स्जिद रखा जाना चाहिए.  

इसी के साथ सुन्नी वक्फ बोर्ड शायद इस जमीन को लेने से इं’कार कर सकता हैं. लेकिन धन्नीपुर गाँव के लोग म’स्जिद निर्माण को लेकर खुश हैं. बता दें अयोध्या मा’मला लंबे अरसे से कोर्ट में चला आ रहा था. जिसमे मु’स्लिम पक्ष ने दावा किया था कि राम मंदिर वाली जमीन इनकी हैं और उस पर पहले से ही म’स्जिद थी. लेकिन कोर्ट में हिन्दू पक्ष ने अपना दावा किया जिसे कोर्ट ने सही माना और हिन्दुओं के पक्ष में फैसला सुनाया और सरकार को आदेश दिया कि मु’स्लिम पक्ष को 5 एकड़ जमीन दी जाए कही भी. जहाँ उनकी म’स्जिद का निर्माण किया जा सके.

मु’स्लिम पक्ष को जिस जगह जमीन दी गयी हैं. वो अयोध्या से 25 किलोमीटर की दूरी पर हैं. इसी के साथ मुस्लिम पक्ष के एक श’ख्स ने कहा की बाबर मु’सला’मानों की सही तरह से नु’माइं’दगी नहीं करता था जबकि हजरत नि’जा’मु’द्दीन, ख’वा’जा मो’ई’नुद्दीन जैसे सूफी संत सही प्रतिनिधित्व करते थे. इसके अलावा एक व्यक्ति ने कहा कि अगर राम मंदिर का निर्माण विशाल किया जायेगा तो हमारे म’स्जिद का निर्माण भी भव्य होना चाहिए जिसके लिए 5 एकड़ से ज्यादा जमीन दी जानी चाहिए. 25 एकड़ जमीन की जरुरत म’स्जिद निर्माण के लिए चाहिए. जो गाँव में जमीन दी गयी हैं उसके पास हैं.