एक बयान देकर फंस गये रजनीकांत, दर्ज हो सकता है केस

1535

रजनीकांत ने कुछ दिन पहले तमिलनाडु की मुख्य विपक्षी पार्टी डीएमके पर निशाना साधा है. द्रविड आंदोलन के जनक कहे जाने वाले एम करुणानिधि और पेरियार ईवी रामसामी पर टिप्पणी की थी. द्रविदार विधुतलाई कझगम के सदस्‍यों ने तमिल सुपरस्‍टार रजनीकांत के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.  रजनीकांत पर पेरियार के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक टिप्‍पणी का आरोप है. कझगम की शिकायत में रजनीकांत के खिलाफ आईपीसी की धारा 153 (ए) के तहत मामला दर्ज करने की मांग की गई है.


बता दें कि अभिनय में महारथ हासिल करने के बाद साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत अब राजनीति की दुनिया में कदम रखने वाले है.  रजनीकांत ने द्रविड़ आंदोलन के जनक कहे जाने वाले एम करुणानिधि और पेरियार ईवी रामसामी पर टिप्‍पणी की थी. सुपरस्‍टार ने कहा, ‘पेरियार हिंदू देवताओं के कट्टर आलोचक थे लेकिन उस समय किसी ने पेरियार की आलोचना नहीं की’.’ इसको देखते हुए सुपरस्टार रजनीकांत के ऊपर पेरियार को लेकर अपमानजनक टिप्पणी का आरोप लगा है.

रजनीकांत ने कहा, ‘यह केवल चो (रामासामी) थे जिन्‍होंने पेरियार से मोर्चा लिया. लेकिन ये एम करुणानिधि को पसंद नहीं आया. चो ने जब ये काम किया था, तो उनको करुणानिधि के क्रोध का सामना करना पड़ा था. चो ने कहा कि डीएमके के संरक्षक ने उन्‍हें मुफ्त में भी प्रचार करने दिया दिया और पूरे देश में लोकप्रिय बना दिया. चो उस समय की सरकार के कट्टर विरोधी थे.