राजीव सक्सेना और दीपक तलवार हुए गिरफ्तार,खुल जायेगी कांग्रेस की पोल पट्टी

308

बड़े बड़े घोटालों में माल लूटने के बाद देश छोड़कर भागे आरोपियों को एक एक करके भारत लाने में जुटी मोदी सरकार को अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआइपी हेलीकॉप्टर घोटाले में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है।  उसने कूटनीतिक तरीके से दुबई के सहयोग से पत्यपर्ण के जरिये राजीव सक्सेना और दीपक तलवार को गिरफ्तार कर लिया है। 
अब पकड़ तो लिया है लेकिन ये लोग कौन है और कैसे ये मोदी सरकार की बड़ी जीत है। आइए आपको आसान भाषा मे बताते है। 

सबसे पहले बात सक्सेना जी की करते है।
राजीव सक्सेना और उनकी वाइफ शिवानी अगस्ता वेस्टलैंड केस में आरोपी है। ये दोनों दुबई की यूएचवाई सक्सेना और मैट्रिक्स होल्डिंग कम्पनी के डायरेक्टर है। इसके अलावा एनआरआई राजीव सक्सेना मॉरीशस की इंटरसेलर टेक्नोलॉजी लिमिटेड नाम की कम्पनी में भी शेयर होल्डर और डायरेक्टर है। इसपर आरोप है कि इसने कम्पनी का अगस्ता वेस्टलैंड चॉपर डील में लांड्रिंग करने में इस्तेमाल किया था। जाँच एजेंसियों के मुताबिक राजीव सक्सेना लॉयर गौतम खेतान के नजदीकी है। आपके लिए ये भी जानना जरूरी है कि खेतान भी फिलहाल ईडी की कस्टडी में है।

 दीपक तलवार की ये वो शख्स है जो विदेशी फंडिंग के जरिए 90 करोड़ से ज्यादा की रकम का दुरुपयोग करने के चलते सीबीआई और ईडी की हिट लिस्ट में है। दरअसल तलवार पर आपराधिक षडयंत्र, जालसाजी और उनके एनजीओ से एम्बुलेंस और अन्य सामानों के लिए मिली 90.72 करोड़ रुपए की विदेशी निधि की कथित हेराफेरी के लिए  एफसीआरए की कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।  इसके अलावा कांग्रेस सरकार के दौरान हुए कुछ विमान सौदों में भी उनकी भूमिका जांच के घेरे में है। तलवार पर करप्शन के मामले में ईडी और सीबीआई ने मुकदमा दर्ज किया हुआ है। 
अब आपको ये बताते है कि कांग्रेस इसमें क्यो फँस सकती है।

कॉंग्रेस सरकार में हुए इस घोटाले की चपेट में गांधी परिवार भी है। दरअसल इस मामले में आरोपी दलाल मिशेल ने 2008 में अगस्ता के भारतीय प्रमुख को चिट्ठी लिखते हुए कहा था कि सोनिया गांधी इस सौदे की ड्राइविंग फोर्स है और आगे से वो एम18 में उड़ान नही भरेगी। इसके अलावा मिलान की एक अपीली कोर्ट ने अपने फैसले में बिचौलियों की जिस बातचीत का जिक्र किया है उसमें एपी और फैमिली जैसे शब्दो का भी प्रयोग किया गया है । आरोप है कि एपी का अर्थ अहमद पटेल और फैमिली का मतलब सोनिया गांधी और उनके परिवार से है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार राफेल डील को लेकर मोदी सरकार को घेर रही है लेकिन अब जबकि अगस्ता वेस्टलैंड मामले से जुड़े ज्यादातर आरोपी भारत आ ही चुके है और अब किसी ने भी अपना मुँह खोल दिया तो कांग्रेस की मुसीबतें बढ़नी तय है।