राजस्थान शिक्षा विभाग के इस चौं’काने वाले फै’सले से बढ़ी वि’द्यार्थियों की प’रेशानी, जानिए क्या है पूरा मा’मला

32

देशभर में कोरोना का क’हर बढ़ता ही जा रहा है. वही दूसरी तरफ कोरोना के सं’क्र’म’ण के कारण देशभर में लॉ’कडा’उन भी लगाया गया था और इसी वजह से स्कूल भी बं’द कर दिए गए थे. ताकि कोरोना का सं’क्र’मण बच्चों में न फैले. लेकिन बच्चों की पढ़ाई का नुक’सान न हो इसके लिए ऑ’नला’इन क्ला’सेज भी शुरू की गयी थी. जिसमें बच्चों की तरफ से काफी ला’प’र’वाही भी देखने को मिली और अब इसी वजह से राजस्थान के शिक्षा विभाग ने अपना फैसला सुना दिया है.

जिसके बाद अब बच्चों की परे’शा’नी बढ़ने वाली है. दरअसल राजस्थान के शिक्षा विभाग ने जा’री आ’देश में कहा है कि इस साल सभी कक्षाओं की परीक्षा होगी और उन्हें बिना परीक्षा प्र’मो’ट नहीं किया जाएगा. जिसका मतलब ये है कि बच्चों को परीक्षाये देनी पड़ेंगी और उन्हें बिना परीक्षा के प्र’मो’ट नहीं किया जायेगा.

साथ ही साथ बता दें कि इस फै’सले से प्रदेश के 65 हजार सरकारी स्कूलों के करीब 80 लाख वि’द्या’र्थी और राजस्थान बोर्ड से सं’ब’द्ध’ता प्रा’प्त 45 हजार स्कूलों के करीब 70 हजारह वि’द्या’र्थी प्र’भा’वि’त होंगे. इन वि’द्या’र्थि’यों का प’रीक्षा देना लाज’मी है और चा’लू स’त्र में उन्हें बिना परीक्षा प्र’मो’ट भी नहीं किया जाएगा.

इतना ही नहीं पिछले कुछ दिनों पहले शिक्षा विभाग ने एक ब’या’न जा’री किया था जिसमें कहा गया था कि 1 से 9वीं कक्षा तक और 11वीं कक्षा के वि’द्या’र्थि’यों को बिना परीक्षा के क्र’मो’न्न’त नहीं किया जाएगा. जाहिर है कोरोना के का’रण काफी बच्चो की प’ढ़ा’ई का नु’क’सा’न हुआ है.