रिजर्वेशन करवाने को लेकर रेलवे ने किया ये बड़ा बदलाव, आप भी जानिए क्या है नए नियम

191

कोरोना वायरस सं’कट के बीच लॉकडाउन का दौर ख’त्म हो रहा हैं और लॉक डाउन की जगह अब अनलॉक 1.0 ने ले ली हैं. अर्थव्यस्था को पटरी पर लाने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने धीरे धीरे कई छेत्र में छूट देना शुरू कर दी हैं. इन सबके बीच रेलवे ने भी जो लोग लॉक डाउन में फंस गए थे उनके लिए ट्रेन चला कर रेलवे ने उनको उनके गन्तव तक पहुँचाने का काम किया हैं.

रेलवे ने 1 जून से लोगों के लिए ट्रेन चला दिया हैं. रेलवे ने ट्रेनों में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और सैनेटाइजेशन का सख्ती से पालन कराने का फरमान भी जारी किया है. इसके अलावा यात्रियों के लिए रेलवे ने रिजर्वेशन टिकट के लिए कुछ नियमों में भी बदलाव किए हैं. रेलवे ने अपने नए आदेश में कहा है कि टिकट बुकिंग  के लिए सिर्फ नाम से काम नहीं चलेगा अब हर यात्री को आरक्षण फॉर्म पर कुछ और जानकारी देनी अनिवार्य होगी.

रेलवे ने बताया कि जो और भी जानकारी देनी हैं सफ़र करते वक़्त उसमे अब आपको बताना होगा कि आप कहा जा रहें है. जहाँ जा रहे हैं वहां का पूरा पता देना होगा. सिर्फ शहर लिखने से काम नहीं चलेगा. इसके अलावा उस जगह का संबंधित पिनकोड भी देना होगा. रेलवे ने ये सब कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए ये बदलाव किया हैं. रेलवे ने कहा है कि अगर यात्री अपनी मांगी हुए जानकारी रेलवे को नहीं देंगे तो रेलवे का टिकट बुक नहीं करवा सकेंगे और ये नियम कम्प्यूटराइज्ड सिस्टम के तहत इन जानकारियों के बाद ही आरक्षित टिकट बनकर मशीन से निकलेगा.

रेलवे ने ये कदम कोरोना वायरस को देखते हुए उठाया है ताकि अगर कोई भी यात्री जो ट्रेन में सफर कर रहा है वो या उसका सहयोगी कोरोना पॉजिटिव निकलता हैं तो उसकी ट्रेवल हिस्ट्री निकाल के उसकी जांच की जा सके और वो किस इंसान से  मिला हैं उन सबकी जांच भी की जा सके. यही एक वजह है कि जिसको देखते हुए रेलवे ने ये डिटेल्स अनिवार्य कर दी हैं.