आतंकी को इज्जत देने वाले राहुल गाँधी की लोगो ने सोशल मीडिया पर लगाई तगड़ी क्लास

463

11 मार्च का दिन यूँ तो बढ़िया था पर पता नही कैसे फिर भी कांग्रेस मुखिया राहुल गांधी एक बार फिर से विवादों में फंस गए,दरअसल ग्यारह तारीख को ही बूथ वर्करों को संबोधित करते हुए अध्य्क्ष साहब की जुबां फिसल गई। हालांकि ज्यादा नही फिसली थी बस उन्होंने तो एक आतंकी को थोड़ी सी इज्ज़त बख्शते हुए उसके नाम के साथ जी लगा दिया ।दरअसल घटना पर जाए उससे पहले आप उनका ये बयान सुन लीजिए।
आप ही बताइए ना राहुल गांधी तो अपने हर भाषण में कहते हैं कि उनकी कोशिश समाज के हर वर्ग को खुश रखने की होती है तो अगर ऐसे में उन्होंने आतंकी को इज्ज़त दे ही दी तो क्या गलत हो गया। अब भाई उनको इज्ज़त कौन देता है ये तो अच्छी बात है ना कि कांग्रेस मुखिया एक आतंकी को भी बोरी भरकर सम्मान दे रहें हैं।

ख़ैर,अब राहुल गांधी का ये बयान देना था कि लोगो का प्यार अपने उफान पर चला गया और उनके इस बेइंतहा प्यार का रिजल्ट तब दिखा जब आज सुबह ही  राहुल गांधी ने अपने ट्विटर एकाउंट से पोस्ट करते हुए लिखा कि ये रहे मेरे कल के दिल्ली बूथ वर्कर्स कन्वेंशन के अंश
अब इन जनाब का इतना पोस्ट करना था कि लोग हो गए चालू,जमके अपने प्यार को बरसाया, राहुल गांधी  के सम्मान में इतना बोला गया कि कांग्रेस मुखिया तो शायद अब इतने प्यारे प्यारे कमैंट्स को पढने की हिम्मत भी नही कर पाएंगे।


भुवनेश्वर नाम के यूजर लिख रहे हैं। राहुल गांधी अव्वल दर्जे के गधे हैं वो सिर्फ पाकिस्तान के काम का है ये वाली नस्ल के गधे भारत में किसी काम के नही हैं।


अजित कह रहे है कि सर मसूद जी बोलना किसने सिखाया,दिग्विजय सिंह ने या फिर सोनिया जी ने।


इंडियन आर्मी नाम के यूजर ने कमेंट किया कि ये वही स्पीच है ना राहुल जी जिसमे आपने आतंकवादी मसूद अजहर को जी लगाकर संबोधित किया है।


स्टायलिश से फॉन्ट में अपना नाम लिखे गौरव नाम के यूजर कह रहें है कि ठीक है मोहतरमा प्रधानमंत्री ही चुनेंगे।लेकिन मसूद जी बोलने वाले को तो गांव का सरपंच भी नही बनने देंगे। वादा है आपसे।


धनजीत गिरी कह रहें हैं कि वोट मांगने आवे तब पार्टी का को निशान हो उसी से उसका स्वागत करे।कमल वालों का स्वागत कमल के फूल से। पंजे वालों का पंजे से
आजाद लिख रहें हैं कि ब्रिटेन में खुद को ब्रिटिश घोषित करता और इंडिया में खुद को इंडियन । मसूद अजहर जैसे आतंकियों के नाम के साथ जी लगाता है। तू तो वर्ल्ड टूर का नतीजा लगता है।


नीतू नाम की यूजर लिख रही है कि राजवंश के कुलदीपक और उत्तराधिकारी के मुँह से मसूद अजहर जी सुनकर जैश ए मोहम्मद वालों ने आने सरगना मसूद अजहर से कहा है कि जनाब इतनी इज्जत तो आईएसआई वाले भी नही देते है। आप कहो तो अब जैश का हेडक्वार्टर दिल्ली में ही शिफ्ट कर लेते हैं।


मीना हिन्दू कह रही है कि बर्बाद होने के लिए ज़रूरी नही की शराब,जुआ या इश्क ही किया जाए,आप 2019 में कांग्रेस को वोट भी दे सकते हैं। पागल वो नही जिसे भूत पिशाच दिखाई देते हैं।पागल तो वो है जिसे राहुल गांधी में राहुल गांधी का भविष्य दिखाई देता है।

श्याम हिन्दू कह रहें हैं कि कांग्रेस पार्टी अगर मुझे सांसद का टिकट भी दे दे तो मैं फिर भी कांग्रेस को वोट नही दूंगा क्योकि गांधी परिवार ही डकैत है।


आशु लिख रहे हैं कि राहुल गांधी आधा इटली का और है और पूरी तरीके से भारत विरोधी है।


अब बताइए यार इनकी इतनी क्लास लगाने की ज़रूरत क्या थी,अब बच्चे से गलती नही होगी तो और किससे होगी । हां, नही तो आप ही बताइए ना । 48 साल के बच्चे से आप उम्मीद करते हैं कि वो इतनी कम उम्र में सब सीख जाएगा।देखिए साहब हम तो यही कहेंगे कि कुछ भी लिखने बोलने से पहले एक बार राहुल गांधी जी की उम्र पर नजर मार लिया करिए यार,किसी बच्चे के लिए आपके ये शब्द बहुत खतरनाक साबित हो सकते हैं। उम्मीद है कि आप सुधरेंगे और भारत के भावी पीएम को इज्ज़त बख्शेंगे।