कांधार कांड के गुनाहगार अजीत डोभाल?

391

चुनाव की तारीखों की घोषणा हो चुकी है. रैलियों, सभाओं, सम्मेलनों और भाषणों का दौर जोर पकड़ चुका है. दौर की शुरुआत में ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने एक भाषण दिया जिसपर उनकी जमकर किरकिरी हो रही है. हाल ही में दिल्ली के बूथ अध्यक्षों के एक सम्मलेन में, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भाषण देते हुए आतंकवादी मसूद अजहर का नाम बड़ी ही इज्ज़त से लिया.

उन्होंने जैश के सरगना मसूद अजहर को “मसूद अजहर जी” कहकर संबोधित किया. सम्मलेन में राहुल गाँधी भाषण देते हुए एयर स्ट्राइक, NDA सरकार और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल पर निशाना चाहते थे. लेकिन राहुल गाँधी का ये निशाना उन्ही पर उल्टा पड़ गया.

दरअसल राहुल गाँधी ने अपने भाषण में कुछ ऐसा बोल गए जो किसी को अच्छा नहीं लग रहा है. उन्होंने भाषण देते हुए कहा,

“पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 से 45 जवान शहीद हो गए थे. सीआरपीएफ बस पर किसने बम फोड़ा? जैश-ए-मोहम्मद, मसूद अजहर ने. आपको याद होगा ना? ये 56 इंच के सीने वाले अपनी पिछली सरकार में मसूद अजहर ‘जी’ के साथ बैठकर गए. अब जो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल हैं, वह मसूद अजहर को छोड़कर आए. भाजपा ने मसूद अजहर को जेल से छोड़ा.”

राहुल गाँधी के इस बयान को भारतीय जनता पार्टी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर भी किया, और लिखा,

देश के 44 वीर जवानों की शहादत के लिए जिम्मेदार आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना के लिए राहुल गांधी के मन में इतना सम्मान! #RahulLovesTerrorists

राहुल गाँधी के इस वीडियो को जिसने भी देखा उसे बुरा लगा और गुस्सा आ गया. और यही वज़ह है कि राहुल गाँधी का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. लोग #RahulLovesTerrorists के हैशटैग के साथ वीडियो को दनादन शेयर करने लगे. राहुल गांधी के साथ ही कांग्रेस पार्टी को भी सोशल मीडिया पर हर तरफ से लताड़ मिलने लगी.

राहुल गाँधी के खिलाफ #RahulLovesTerrorists के हैशटैग को चलता देख, उनका बचाव करने के लिए कांग्रेस के नेता और समर्थक भी मैदान में उतरे. उन्होंने राहुल गांधी के बचाव में ये कहना शुरू किया कि राहुल गाँधी ने कटाक्ष करते हुए ऐसा कहा है.

उन्होंने #RahulLovesTerrorists हैशटैग के जवाब में #BJPLovesTerrorists का हैशटैग चलाना शुरू किया. कांग्रेस नेताओं ने इस टैग के साथ भाजपा सरकार से सवाल करना शुरू कर दिया कि राहुल गाँधी ने क्या गलत कहा? क्या भाजपा की सरकर में मसूद अजहर को नहीं छोड़ा गया था?

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्विटर अकाउंट पर दो सवाल पूछे,

“क्या एनएसए डोभाल आतंकवादी मसूद अज़हर को कंधार जा रिहा कर नहीं आए थे? क्या मोदी जी ने पाक की आईएसआई को पठानकोट आतंकवादी हमले की जाँच करने नहीं बुलाया?”

कांग्रेस के समर्थक और नेता आरोप लगाने लगे कि भाजपा कांग्रेस से प्यार करती है इसीलिये भाजपा की सरकार में मसूद अजहर को छोड़ा गया था. लेकिन एक बात हमारी समझ में नहीं आई कि कांग्रेस कंधार के उस मुद्दे पर भाजपा सरकार को गलत किस तरह ठहरा रही है? ये बात तो देश का बच्चा- बच्चा जनता है कि उस वक़्त हालात क्या थे.

आतंकियों ने इंडियन एयरलाइन्स के एक विमान को हाईजैक कर लिया था. ये विमान काठमांडू से दिल्ली आ रहा था. इस विमान में करीब 175 यात्री सवार थे. विमान को हाईजैक करने के बाद आतंकियों ने उसमें सवार यत्रियों को रिहा करने के बदले भारत सरकार से बहुत सी मांगें की. और इन्ही मांगों में से एक मांग थी मसूद अजहर की रिहाई.

अटल बाजपेई के नेतृत्व वाली सरकार ने आतंकियों की बहुत सी मानगो को नकार दिया. लेकिन यही एक मांग थी जिससे आतंकी नहीं पलटे. उन्होंने फ्लाइट में सवार एक यात्री की हत्या भी कर दी. जिसके चलते सरकार पर दबाव और बढ़ गया. यही वज़ह रही कि सरकार को सैकड़ों जिंदगियों को बचाने के लिए मसूद को मजबूरन रिहा करना पड़ा.

इसके अलावा राहुल गाँधी के इस भाषण के बाद सेना से जुड़े कुछ वरिष्ठ सूत्रों की तरफ से यह जानकारी भी आई कि राहुल गाँधी का दावा गलत है. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल आतंकी मसूद अजहर और ओमार शेख को कंधार ले जाने वाले विमान में मौजूद नहीं थे. उस विमान में आतंकियों के साथ विदेश मंत्री रहे जसवंत सिंह सवार थे.

सूत्रों ने बताया कि अजित डोभाल पहले कंधार ज़रूर गए थे. ताकि आतंकियों से बात की जा सके. क्योंकि
आतंकी भारत सरकार से 13 अरब 94 करोड़ 27 लाख रुपये की फिरौती की मांग कर रहे थे. साथ ही उन्होंने भारतीय जेलों में कैद कुल 36 आतंकवादियों की रिहाई की मांग भी की. उस वक़्त अजित डोभाल ने आतंकियों से बातचीत की और उनकी बाकी सभी मांगों को नकार दिया.

ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी समेत अन्य सभी नेताओं का भारत की सरकार, और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पर इस तरह से निशाना साधना समझ नहीं आता. बाकी देश की जनता इतनी समझदार तो है ही कि वो ये बात अबतक अच्छी तरह समझ गई होगी कि,

#WhoLovesTerrorists

देखिये हमारा ये वीडियो: