अब राहुल गाँधी को आरोग्य सेतु ऐप से हुई दिक्कत, ऐप के बहाने मोदी सरकार की नियत पर उठाये सवाल

2734

7 सालों से केंद्र की सत्ता से बाहर बैठी कांग्रेस और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने मोदी सरकार के हर कदम, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हर कोशिश की आलोचना करना और उसपर सवाल उठाना अपना परम कर्तव्य समझ लिया है. कोरोना रोकने के लिए लागू किये गए लॉकडाउन और पीएम केयर्स फंड पर सवाल उठाने के बाद अब राहुल गाँधी ने आरोग्य सेतु ऐप पर सवाल उठाये हैं. पीएम मोदी लगातार लोगों से इस ऐप को मोबाइल में डाउनलोड कर रहे हैं जिस कारन राहुल गाँधी को पीएम की मंशा पर शक हो रहा है.

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच आरोग्य सेतु ऐप को निजी और सरकारी कर्मचारियों के लिए अनिवार्य कर दिया गया है. इस ऐप के माध्यम से ये पता चलता है कि आप कोरोना संक्रमित मामलों से कितनी दूरी पर हैं. लोकेशन के जरिये ये बताता है कि आप सेफ जोन में हैं या रेड जोन में. ये ऐप GPS पर आधारित है. लेकिन राहुल गाँधी को लगता है कि इस ऐप के जरिये सरकार लोगों की निगरानी करने की कोशिश कर रही है और उनकी प्राइवेसी में दखल दे रही है.

राहुल गाँधी ने कहा, ‘आरोग्य सेतु ऐप एक जटिल निगरानी प्रणाली है, जो एक प्राइवेट ऑपरेटर के लिए आउटसोर्स है, जिसमें कोई संस्थागत निरीक्षण नहीं है. इससे गंभीर डेटा सुरक्षा और गोपनीयता संबंधी चिंताएं बढ़ती हैं. तकनीक हमें सुरक्षित रखने में मदद कर सकती है, लेकिन नागरिकों की सहमति के बिना उनको ट्रैक करने के लिए डर का फायदा नहीं उठाया जाना चाहिए.’

कोरोना के खिलाफ जंग में कांग्रेस सरकार की कितनी और किस तरह मदद कर रही है ये तो कहना मुश्किल है. लेकिन पार्टी और पार्टी के नेता सरकार के हर कदम पर सवाल उठाते हुए उसका विरोध जरूर कर रहे हैं.