वायरल हुआ सोशल मीडिया पर मसूद अज़हर और राहुल गाँधी का पोस्टर

386

आपको याद ही होगा कि कुछ दिनों पहले ही आतंकी मसूद अजहर को मसूद अजहर जी कह कर संबोधित किया था …वो अपने ही बयान के बाद बुरी तरह फंस गये है …चारों तरफ से बस राहुल गाँधी के लिए विरोध के शुर उठ रहे है ..सोशल मीडिया पर भी लोगों ने उनको खूब लताड़ा था ..और खूब भला बुरा कहा था इससे पहले दिग्विजय सिंह भी ओसामा को सम्मानपूर्वक सम्बोधित कर चुके हैं.. और उनके स्पोक पर्सन सुरजेवाला भी अफजल गुरु जैसे आतंकी को भी अफजल गुरूजी कहते नजर आये थे एक press कांफ्रेंस में ..ऐसे में, कॉन्ग्रेसी नेताओं की इस हरकत को लेकर जनता ने उन्हें सोशल मीडिया पर तो घेरा ही इसके साथ साथ कांग्रेस के गढ़ कहे जाने वाले अमेठी में भी राहुल गाँधी का विरोध लोग जोरों से कर रहे है क्यों की वह के लोगों को भी राहुल गाँधी का मसूद अजहर जैसे आतंकी को मसूद अजहर जी कहना कुछ भय नहीं है.

लोगो ने अपना गुस्सा दिखाते हुए राहुल गाँधी के प्रति विरोध प्रदर्शन करते हुए राहुल गाँधी और मसूद अजहर के पोस्टर पोस्टर लगाकर लिखा कि आतंकवादी को ‘जी’ कहे ऐसा सांसद अमेठी को नहीं चाहिए.. साथ ही देश के पीएम का जो अपमान करे, आतंकवादी का सम्मान करे ऐसा सांसद अमेठी को मंजूर नहीं.. राहुल गांधी मुर्दाबाद। आतंकवादी मुर्दाबाद ..पोस्टर पर भाजयुमो यानि भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता का नाम लिखा है… मंगलवार देर रात लगा यह पोस्टर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.. इससे पहले भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कई विवादित बयान से उनकी काफी किरकिरी हो चुकी है.. वहीं वही बिपक्षी पार्टिया  इस मुद्दे पर राहुल गांधी को हर जगह गेरती नजर आ रही है.. वैसे राहुल गाँधी अमेठी से ही लोकसभा सांसद हैं.. वह 2004, 2009 और 2014 में इस संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.. आगामी लोकसभा चुनावों में भी राहुल गाँधी अमेठी से ही ताल ठोकेंगे..

इस क्षेत्र में भाजपा और कॉन्ग्रेस के बीच पोस्टर वॉर कोई नया नहीं है..इससे पहले भी अमेठी में ऐसे पोस्टर छपवाकर चिपकाये गए थे जिनमे लिखा था अमेठी के लापता सांसद का स्वागत है …तो किसी ने लिखा था की किसानो की जमीं हडपने वाले सांसद का स्वागत है..ऐसे में सवाल उठाना लाजमी है कि अपने ही क्षेत्र में ऐसा विरोध प्रदर्शन होने के बाद कांग्रेस क्या कांग्रेस आने वाले लोकसभा चुनावों में अपना परचम लहरा पायेगी ?..क्यों की जनता उनके बयानों से परेशान है ..और दूसरी तरफ सब विपक्षी पार्टी कांग्रेस से अपनी कंनी काट टी नजर आ रही है.. मायावती ने तो कांग्रेस को करारा झटका दे ही दिया कि उनकी पार्टी किसी भी राज्य में कांग्रेस से कोई गठबंधन नहीं करेगी…आंकड़ों के हिसाब दिल्ली में भी ‘गड्ढे’ में है ..कांग्रेस वही गुजरात में झटके-पर-झटका लगर है गुजरात कांग्रेस को क्यों की पिछले तीन दिन में उनके अहम चार विधायक बीजेपी में शामिल हो चुके हैं..वैसे ये बयान बाजी और ये पोस्टर बाज़ी तो चलती रहेगी क्यों की चुनाव सिर पर है ..पर आखिरी फैसला तो हमारी जनता यानि आपका ही होगा जो निर्णयक होगा कि 2019 में किस की सरकार बनेगी.