‘द वॉल’ राहुल द्रविड़ के जन्मदिन पर जानें, कैसे सपोर्ट स्‍टाफ के लिए ‘कोच’ राहुल द्रविड़ ने यूं दिखाई थी दरियादिली,

2384

आपके परिवार का एक ऐसा सदस्य जरूर होगा जो हर किसी की हेल्प करता है . हर किसी की कामयाबी पर खुश होता है .और जरूरत के हिसाब से कुछ भी करने को तैयार होता है.
टीम इंडिया के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी माने जाने वाले राहुल द्रविड़ का जन्म 11 जनवरी, 1973 को मध्य प्रदेश में हुआ था। द्रविड़ अपना 46वां जन्मदिन मना रहे हैं।

और कभी कोई क्रेडिट नही लेता.राहुल द्रविड़ भी भारतीय क्रिकेट टीम के ऐसे ही मेंबर थे.
जिसने जरूरत पड़ने पर विकेटकीपिंग भी की. जब एक परमानेंट विकेटकीपर की तलाश हो रही थी उस वक़्त उन्होंने न सिर्फ बीड़ा उठाया बल्कि उसे निभाया भी. कप्तान से जब कोच की भूमिका में आये तो अंडर 19 के खिलाड़ियों को वर्ल्ड कप का खिताब भी दिलाया. जब क्रेडिट द्रविड़ को दिया जाने लगा तो उन्होंने एक बार फिर मना कर दिया.

इनामी राशि मे प्लेयर्स को 25 25 लाख और कोच को 50 लाख देने की घोषणा हुई.द्रविड़ ने 50 लाख लेने से इनकार कर दिया इसलिए नही कि उन्हें ज्यादा चाहिए था.बल्कि इसलिए क्योंकि द्रविड़ ने कहा प्रदर्शन प्लेयर का है उनका सिर्फ मार्गदर्शन है.तो या तो उन्हें 25 ही दिया जाए या खिलाड़ियों भी 50 लाख दिया जाए सबको बराबर मिले आज जहाँ पैसों और क्रेडिट पाने के लिए लोग कुछ भी कर जाते है…


द्रविड़ नें अपनी महानता में एक और चैप्टर जोड़ दिया पृथ्वी शॉ से लेकर मयंक अग्रवाल तक द्रविड़ की फैक्ट्री से निकले चीते है जो आने वाले टाइम में भारतीय क्रिकेट के सितारे है भूमिका कोई भी रही हो द्रविड़ ने हर भूमिका को शिद्दत से निभाया है और 100% रिजल्ट भी दिया है. साल 2000 में विजडन क्रिकेटर्स ने उन्हें साल के टॉप 5 क्रिकेटर्स में शुमार किया था। 2004 में उन्होंने आईसीसी का बेस्ट टेस्ट क्रिकेटर का अवॉर्ड भी अपने नाम किया था। दिसंबर 2011 में वह पहले गैर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर बने, जिन्हें कैनबरा में ब्रैडमैन ओरेशन दिया गया था। द्रविड़ को ‘पद्म श्री’ और ‘पद्म भूषण’ जैसे सम्मानों से भी नवाजा जा चुका है।

अंडर-19 और इंडिया ‘ए’ टीम के मौजूदा कोच और टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर रह चुके राहुल द्रविड़ को ‘द वॉल’ और ‘मिस्टर भरोसेमंद’ जैसे नाम से जाना जाता है। द्रविड़ ने कई मुश्किल मौकों पर टीम इंडिया को जीत दिलाई है। इसके अलावा द्रविड़ टीम इंडिया की कप्तानी भी कर चुके हैं।
द्रविड़ के जन्मदिन के खास मौके पर उनके साथी क्रिकेटर रहे वीरेंद्र सहवाग ने उन्हें अपने खास अंदाज में जन्मदिन की शुभकामनाएं दी हैं।


यूं तो द्रविड़ का जन्म तो इंदौर में हुआ था, लेकिन उनका परिवार कर्नाटक शिफ्ट हो गया था। उनकी पढ़ाई कर्नाटक से ही हुई। सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन से एमबीए करने के दौरान ही उनका सिलेक्शन नेशनल क्रिकेट टीम में हो गया था। वह एक स्टेट लेवल हॉकी प्लेयर भी रह चुके हैं।