लडकियों की वर्जिनिटी पर तंज कसने वाले प्रोफेसर की बढ़ी मुश्किलें , खूब हो रही निंदा

632

मैंने पूछा लोगों से नारी क्या है ? किसी ने कहा मां है, किसी ने कहा बहन , किसी ने कहा हम सफर है, तो किसी ने कहा दोस्त लेकिन एक प्रोफ्सेर ने कह दिया कोल्ड ड्रिंक की बोतल , अरे अरे अरे कोल्ड ड्रिंक की बोतल , ऐसा किसने बोला पहले जानिये पूरा मामला कोलकाता के जादवपुर विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर कनक सरकार मे 12 जनवरी, 2019 को फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा. इसमें लिखा था-

“वर्जिन दुल्हन क्यों नहीं?” उसमें कनक ने लिखा कि “बहुत सारे लड़के बेकवूफ बने हुए हैं। वो बीवी के रूप में एक वर्जिन लड़की को लेकर जागरूक नहीं हैं। वर्जिन लड़की एक सील बंद बोतल या सील बंद पैकेट की तरह है। क्या तुम सील टूटी कोल्ड ड्रिंक की बोतल या सील खुले बिस्किट के पैकेट को खरीदना पसंद करोगे? इसी तरह तुम्हारी बीवी का केस है” .

हसी आती है ऐसे लोगों पर जिनकी सोच आज भी इतनी गिरी हुई है . किसी भी लड़की को उसके कपडे और virginity से जज करना हमारे देश भारत में बहुत पहले से चला आरहा है .इतना ही नहीं अगर लडकिया शादी के बाद वर्जिन है या नहीं ये भी बहुत इम्पोर्टेन्ट है हमारे देश में यहाँ तक की शादी के बाद अगर लड़की नॉन वेर्जिन निकली तो सीधे सीधे उसके कैरक्टर पर सवाल किया जाता है . वही काम अगर कोई लड़का कर रहा है बहुत कूल कहलता है , लेकिन लडकियों ने कर दी सीधे सीधे slut बोल दिया जाता है .

प्रोफेसर कनक ने हद्द तब कर दी जब उन्होंने अपने बचाव में ये बोला की यह सोशल मीडिया पर दोस्तों के समूह के बीच ‘मस्ती ‘ के लिए किया गया था। उन्होंने कहा कि किसी ने पोस्ट का स्क्रीनशॉट ले लिया और आगे बढ़ा दिया जिसके बाद जवाब देना पड़ा। मेरा इरादा किसी की भावनाओं को आहत करना या किसी महिला को बदनाम करना नहीं था। लेकिन प्रोफेसर साहेब आपने मस्ती मस्ती में भी इतनी घटिया बात कैसे लिख दी . आपको इतना हक किसने दिया की अब आप हमारे virginity पर टिपण्णी करो .

इससे पहले 9 नवंबर, 2018 को भी वर्जिनिटी के बारे में एक फेसबुक पोस्ट लिखा था. इसमें लिखा था-कई लड़के और लड़कियां मूल्यों, संस्कारों और मानवीय नैतिकता के गलत विचार दिमाग में बना लेते हैं. मॉडर्न लड़के-लड़कियों को लगता है कि वर्जिनिटी का जीवन के आचार-विचार और नैतिकता से कुछ लेने देना नहीं है. इसलिए लड़कियां चालाक और जालसाज लड़कों के चक्कर में आ जाती हैं. वैसे अगर कोई अपनी वर्जिनिटी को खो भी दे तो इसका मतलब ये नहीं है कि उसने अपने मूल्यऔर नैतिकता हमेशा के लिए खो दी. बस ये दोबारा न हो, इसका खास ख्याल रखना होता है. वर्जिनिटी ईमानदारी और नैतिकता की तरह वेशकीमती होती है.

यहाँ सिर्फ प्रोफेसर की बात नहीं हो रही यहाँ उन तमाम लडको की बात हो रही जिनकी ऐसी मानसिकता है . जिस देश की लडकिया आज मिस वर्ल्ड जीत रही , प्रेसिडेंट बन रही , हवाई जहाज उड़ा रही , यहाँ तक की लडको को, हर फील्ड में कड़ी टक्कर दे रही वहा आज भी ऐसी घटिया सोच वाले लोग समाज में बचे हैं . प्रोफेरसे साहेब आज तो आपको प्रोफ्फेसेर बोलने पर शर्म आती है मुझे क्योकि गुरु को भगवान् का दर्जा दिया गया है . कोई भगवान् अपने बच्चो के लिए ऐसी बात कभी नहीं करता है .